गुजरात में कमजोरी के साथ कमल खिला, हिमाचल में पूर्ण बहुमत

गुजरात में कमजोरी के साथ कमल खिला, हिमाचल में पूर्ण बहुमत

-हिमाचल में मुख्यमंत्री पद के दावेदार धूमल चुनाव हारे, लेकिन पार्टी जीती

नई दिल्ली/अहमदाबार/शिमला। गुजरात और हिमाचल में कमल खिल गया है। सोमवार को आए चुनाव नतीजों में दोनों ही जगह भाजपा पूर्ण बहुमत से सरकार बना रही है। हालांकि गुजरात में कांग्रेस की मेहनत रंग लाई है और उसने मजबूत स्थिति प्राप्त की है जबकि भाजपा पिछली बार से सत्रह सीटें कम लेकर आई है।

गुजरात में बीजेपी ने लगातार छठीं बार सरकार बनाई, लेकिन इस चुनाव में उसे कांग्रेस से कड़ी टक्कर मिली। 2012 में कांग्रेस की 60 सीटें थीं, जो बढ़कर 77 हो गईं। बीजेपी को 99 सीटें मिलीं। पिछले चुनाव में 115 सीट मिली थीं। अन्य को 6 सीटें मिलीं। बीजेपी का 49.1 प्रतिशत जबकि कांग्रेस का वोट शेयर 41.4 प्रतिशत रहा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जीत को विकास की जीत बताया। राहुल गांधी ने ट्वीट कर हार मानी। जिन बड़े चेहरों पर नजर थी, उनमें से सीएम विजय रूपाणी और डिप्टी सीएम नितिन पटेल ने जीत दर्ज की। दूसरी तरफ कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लडऩे वाले ओबीसी नेता अल्पेश ठाकोर और दलित नेता जिग्नेश मेवाणी को जीत हासिल हुई। कांग्रेस के बड़े नेता अर्जुन मोढवाडिया और शक्तिसिंह गोहिल हार गए।

भाजपा-कांग्रेस दोनों के वोट बढ़े

बीजेपी का वोट शेयर करीब 1 प्रतिशत और कांग्रेस का करीब 2 प्रतिशत बढ़ा। सीटों के मामले कांग्रेस फायदे तो बीजेपी नुकसान में रही। इस बार बीजेपी को 99 (पिछली बार 116) सीटें मिलीं, वहीं कांग्रेस को 77 (पिछली बार 60) सीटें मिलीं।

जीत विकास का नतीजा: मोदी

मोदी ने कहा, गुजरात और हिमाचल प्रदेश में जीत गुड गवर्नेंस और विकास का नतीजा है। मैं बीजेपी कार्यकर्ताओं को सैल्यूट करता हूं जिन्होंने अथक मेहनत की। इनकी वजह से ही जीत हासिल हुई। मैं दोनों राज्यों की जनता को नमन करता हूं कि उन्होंने बीजेपी के लिए प्रेम और भरोसा दिखाया। मैं उनको ये यकीन दिलाना हूं कि इन राज्यों के विकास के लिए हम कोई कोर कसर बाकी नहीं रखेंगे।

जनता का फैसला स्वीकार: राहुल

राहुल ने ट्वीट में लिखा, कांग्रेस पार्टी जनता के फैसले को स्वीकार करती है और दोनों राज्यों की नई सरकार को बधाई देती है। मैं गुजरात और हिमाचल प्रदेश के लोगों को हमें प्यार देने के लिए दिल से शुक्रिया अदा करता हूं।

ये परफॉर्मेंस की जीत: शाह

अमित शाह ने कहा देश की राजनीति में पॉलिटिक्स ऑफ परफॉर्मेंसी की जीत हुई है। इसका पूरा श्रेय राज्य की जनता और कार्यकर्ताओं को जाता है। गुजरात में हम छठी बार सरकार बनाने जा रहे हैं। हमारा वोट प्रतिशत बढ़ा है। इतने घोर जातिवादी प्रचार के बाद भी 1.25 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है। गुजरात में कांग्रेस ने मुद्दों से भटककर जातिवादी नीति अपनाई। मुद्दों से भटकाया गया। कांग्रेस के सभी प्रमुख नेता वहां हारे। कांग्रेस का घोषणा पत्र देखिए। रेवेन्यू से ज्यादा प्रॉमिस किए गए थे। प्रचार के दौरान ऐसे शब्दों का प्रयोग हुआ जो आमतौर पर हम इस्तेमाल भी नहीं करते। लेकिन मोदी जी ने विकास की बात की और जनता ने उसे माना।

हार्दिक बोले- बीजेपी अत्याचार करे, उन्हें शुभकामनाएं

हार्दिक पटेल ने कहा, जो फैसला आया है। हम ये कह सकते हैं कि गुजरात की जनता जागी तो है लेकिन बहुत जागने की जरूरत है। सूरत और राजकोट में ईवीएम टेंपरिंग हुई है। अगर एटीएम हैक हो सकते हैं तो ईवीएम क्यों नहीं। बीजेपी ने पैसे के जोर पर घटिया सोच को जीत में बदला। मैंने पहले ही कहा था कि नतीजे यही रहेंगे। बीजेपी हम पर अत्याचार करे। उनको शुभकामनाएं।

हिमाचल में भाजपा को मुख्यमंत्री की तलाश

हिमाचल में भाजपा ने बड़ी जीत दर्ज की है। यहां कुल 68 विधानसभा सीटों में से भाजपा को 44 सीटें मिली हैं। वहीं कांग्रेस को 21 तथा अन्य को 3 सीटों पर संतोष करना पड़ा है। इतनी बड़ी जीत के बावजूद मुख्यमंत्री उम्मीदवार प्रेम कुमार धूमल के घर से खुशी नदारद है। वे चुनाव हार जो गए हैं। धूमल उन कुछ गिने-चुने नेताओं में शामिल हो गए हैं जिनकी पार्टी तो चुनाव जीत गई, लेकिन मुख्यमंत्री उम्मीदवार को हार का मुंह देखना पड़ा। अब यह तो तय है कि देवभूमि हिमाचल में भाजपा की सरकार बनेगी। लेकिन अब पार्टी को नए सिरे से मुख्यमंत्री का चेहरा ढूंढऩा पड़ेगा। सवाल यही है कि हिमाचल में मुख्यमंत्री कौन बनेगा?

कौन बनेगा मुख्यमंत्री?

प्रेम कुमार धूमल की हार के बाद अब आम जनता में ही नहीं, भाजपा में भी यही सवाल है कि मुख्यमंत्री कौन बनेगा? चुनाव से पहले ही भाजपा ने प्रेम कुमार धूमल को अपना मुख्यमंत्री पद का दावेदार घोषित कर दिया था। लेकिन अब विधानसभा चुनाव में उनकी हार के बाद भाजपा आने वाले दिनों में मुख्यमंत्री के रूप में कोई नया चेहरा पेश करेगी।

केंद्रीय मंत्री जेपी नड्डा मुख्यमंत्री पद की रेस में दिखायी दे रहे हैं। प्रेम कुमार धूमल के बेटे अनुराग ठाकुर को लेकर भी उनके समर्थकों में उत्साह है। धूमल के प्रशंसक चाहेंगे धूमल नहीं तो उनके बेटे को ही राज्य की कमान सौंप दी जाए। लेकिन इन तीनों नामों के साथ भाजपा को दिक्कत यह है कि ये तीनों लोकसभा सदस्य हैं। अगर इनमें से किसी को हिमाचल का मुख्यमंत्री बनाया जाता है तो उन्हें 6 महीने के अंदर उपचुनाव में जीतकर आना पड़ेगा। यही नहीं लोकसभा में भी भाजपा का एक सदस्य कम हो जाएगा और उस पद के लिए उपचुनाव करवाना पड़ेगा। अगर भाजपा का केंद्रीय नेतृत्व केंद्र से किसी नेता को न भेजना चाहे तो फिर चुने गए विधायकों में से भी किसी को मुख्यमंत्री की कुर्सी पर बिठाया जा सकता है।

जीत पर किसने क्या कहा

यह हमारे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी के करिश्माई नेतृत्व और राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह जी के संगठन कौशल की जीत है। जनता ने एक बार फिर विकास पर मुहर लगाई है। गुजरात की जनता ने लगातार छठी बार भाजपा नेतृत्व में जो आस्था और विश्वास व्यक्त किया है उससे साबित हो गया है कि आज देश में भाजपा का कोई विकल्प नहीं है। दूसरी ओर, हिमाचल प्रदेश की जीत ने सिद्ध कर दिया है कि भारत कांग्रेस मुक्त होने की दिशा में आगे बढ़ रहा है। राजस्थान में आने वाले सभी चुनावों में भी हम एक बार फिर जनता का अभूतपूर्व समर्थन हासिल करेंगे और सरकार बनाएंगे। -वसुन्धरा राजे, मुख्यमंत्री राजस्थान

गुजरात में जीत पहले से ही तय थी। पीएम मोदी के विजन की जीत है गुजरात में जीत। राहुल गांधी कांग्रेस के योग्य व्यक्ति नहीं है। एक ही परिवार को बढ़ावा देने की गलती भारी पड़ेगी। -गुलाबचंद कटारिया, गृहमंत्री, राजस्थान सरकार

राजस्थान कांग्रेस गुजरात चुनाव को लेकर बेहद आशान्वित थी लेकिन नतीजे बिल्कुल विपरीत आए। गुजरात चुनावों में गलत बयानबाज़ी की गई लेकिन साथ ही उन्होने ये भी कहा कि गुजरात में कांग्रेस अतीत के मुकाबले में मजबूत हुई है। आने वाले पांच राज्यों के चुनावों में कांग्रेस ही जीतेगी और जनता को जागरूक करेगी। -अर्चना शर्मा, प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता व उपाध्यक्ष

गुजरात की जनता ने कांग्रेस के जातिवादी समीकरण को नकार दिया और फिर से विकास को चुना। -ज्योति किरण, चेयरमैन, राज्य वित्त आयोग

नतीजों की समीक्षा की जाएगी लेकिन हमारी सीटें पहले की बजाय गुजरात में बढ़ी है। बीजेपी ने चुनाव के आखिरी समय में गलतबयानी के जरिए चुनाव जीता है अन्यथा पूरी जनता बीजेपी को खारिज कर चुकी थी। हमारी सीटें पहले की बजाय गुजरात में बढ़ी हैं। -बीडी कल्ला, वरिष्ठ नेता, राजस्थान कांग्रेस
गुजरात में 22 साल से भाजपा की सरकार है। गुजरात के मॉडल की सभी तारीफ करते हैं। गुजरात की जनता विकास और शांति पसंद है।-अशोक परनामी, प्रदेशाध्यक्ष,भाजपा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *