राहत: डॉक्टरों की हड़ताल खत्म, अजय चौधरी के स्थानान्तरण के मुद्दे पर न कोई जीता और न कोई हारा

राहत: डॉक्टरों की हड़ताल खत्म, अजय चौधरी के स्थानान्तरण के मुद्दे पर न कोई जीता और न कोई हारा

-मैराथन बैठक के बाद निकला रास्ता
-रेसमा में दर्ज मुकदमें भी वापिस लिए

जयपुर। प्रदेश में सेवारत चिकित्सकों की 12 दिन से चल रही हड़ताल खत्म हो गई है। प्रदेश सरकार और डॉक्टरों के बीच वार्ता सफल रही। सरकार ने डॉक्टरों की सभी मांगें मान ली है।

सरकारी और हड़ताली सेवारत डॉक्टरों के बीच दिन भर चली कई दौर की बातचीत के बाद डॉक्टरों ने पिछले 12 दिनों से चल रही अपनी हड़ताल को वापस ले लिया है। सरकार ने उनकी सभी मांगों को मानने का लिखित में बयान जारी कर दिया है। साथ ही हड़ताल के दौरान रेस्मा सहित सभी धाराओं के तहत दर्ज मुकदमों को भी वापस ले लिया है। सेवारत डॉक्टर 16 दिसंबर से हड़ताल पर चले गए थे। जिससे प्रदेश की चिकित्सा व्यवस्था बिल्कुल चरमरा गयी थी। जिसके बाद सरकार ने रेस्मा कानून लगा दिया था। हाईकोर्ट के गिरफ्तारी के निर्देश के बावजूद भी डॉक्टर काम पर नहीं लौटे थे।

वार्ता कई बार टूटी, कई बार जुड़ी
सरकार और सेवारत चिकित्सकों के बीच चल रही इस बैठक पर हर खासोआम में उत्सुकता थी। बुधवार को बैठक शुरू होने के बाद दिन भर में इसमें कई बार गतिरोध आया लेकिन हर बार वापिस बातचीत शुरू भी हुई। स्वास्थ्य मंत्री कालीचरण शराफ ही नहीं बल्कि मंत्री यूनुस खान और अजय सिंह किलक के साथ विधायक और बीजेपी के प्रदेशअध्यक्ष अशोक परनामी भी इसमें सरकार की ओर से मौजूद थे। दोनों पक्षों के बीच एक नहीं दो नहीं बल्कि पूरे पांच बार समझौता पत्र ड्राफ्ट करने की मजबूरी भी आई। नतीजा कई घंटों की बातचीत के बाद देर शाम जिस एजेंडे को लेकर बैठक हुई उसमें वह कामयाब हुई और डॉक्टरों ने 12 दिन पुरानी अपनी हड़ताल को वापस लेने का एलान करते हुए काम पर लौटने की बात कही।

अजय चौधरी के तबादले का क्या
सेवारत चिकित्सक संघ के अध्यक्ष अजय चौधरी के तबादले के मुद्दे पर न तो सरकार हारी और न चिकित्सक जीते। इसका रोचक रास्ता निकालीा गया। सभी गिले शिकवों को भुलाते हुए सरकार के प्रतिनिधियों को डॉक्टर्स ने बातचीत की सफलता पर मिठाईयां खिलाई। सरकार ने भी साफ कर दिया की नवम्बर महीने में हुए अभी समझौतों को ईमानदारी से पूरा किया जाएगा। चिकित्सक संघ के अध्यक्ष डॉ. अजय चौधरी के ट्रांसफर को हिंडौन सिटी से संशोधत करते हुए सीकर किया जाएगा। अब वे सीकर के सीएमएचओ होंगे। इस बार सरकार भी काफी गंभीर दिखाई दे रही थी। मामले में सरकार की गंभीरता का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि इस बैठक में डॉक्टरों से वार्ता के लिए तीन मंत्रियों के साथ बीजेपी के प्रदेशाध्यक्ष अशोक परनामी भी मौजूद थे। बैठक में डॉक्टरों के प्रतिनिधि के तौर सेवारत डॉक्टरों के अध्यक्ष अजय चौधरी समेत रेजिडेंट्स डॉक्टर भी मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *