बनेंगे रोजगार कार्यालयों में दिव्यांग विण्डो, विश्वविद्यालयों में दिव्यांग केम्पस

बनेंगे रोजगार कार्यालयों में दिव्यांग विण्डो, विश्वविद्यालयों में दिव्यांग केम्पस

-दिव्यांगजनों की भलाई के कार्य पुण्य कार्य से कम नहीं- केन्द्रीय मुख्य आयुक्त
जयपुर। केन्द्रीय मुख्य आयुक्त (दिव्यांगजन) कमलेश कुमार पाण्डेय ने कहा है कि समाज में दिव्यांगनों को मुख्य धारा में लाने के लिए जो भलाई के कार्य किये जा रहे हैं वे किसी पुण्य कार्य से कम नहीं है। उन्होंने कहा कि दिव्यांगजनों के धर्म के इस पुनित कार्य में जो भी व्यक्ति, संस्था अपना सहयोग प्रदान करता है उसे इस जन्म में ही नहीं अपितु अगले जन्म में भी पुण्य प्राप्त होने के साथ सुखद क्षण की अनुभूति होती है।
केन्द्रीय मुख्य आयुक्त गुरुवार को यहां शासन सचिवालय में दिव्यांगजनों की भलाई के लिए केन्द्र सरकार द्वारा 1995 एवं 2016 में लागू किये गये एक्ट के तहत राज्य में विभिन्न विभागों द्वारा दी जा रही सुविधाओं की समीक्षा बैठक की अध्यक्षता करते हुये बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि केन्द्र सरकार द्वारा दिव्यांगजनों को समाज की मुख्य धारा में लाने के लिये उन्हें अधिकार दिये गये हैं एवं उनकी समस्याओं के निदान के लिये सम्बन्धित विभाग मिलजुल कर कार्य करें ताकि समाज को सकारात्मक परिणाम मिल सके।
उन्होंने कहा कि साइन्स एवं वैज्ञानिक के इस दौर में दिव्यांगजनों की सुविधा के लिये सभी सरकारी विभाग उनकी सुविधानुसार वेबसाइट अपलोड करें ताकि वे राज्य सरकार की योजनाओं की जानकारी प्राप्त कर सके। उन्होंने सुगम भारत अभियान के तहत निर्माणाधीन भवनों में उनकी सुविधाओं को ध्यान में रखते हुए निर्माण कार्य करवाने, प. दीनदयाल उपाध्याय शिविरों में उन्हें लाभान्वित करने, स्वरोजगार उपलब्ध करवाने हेतु स्किल डवलपमेन्ट योजना का लाभ देने, राज्य के सभी रोजगार कार्यालयों में दिव्यांग विण्डो खोलने, सभी विश्वविद्यालयों में उच्च शिक्षा के लिये दिव्यांग केम्पस बनाने, स्पोटर््स खिलाडिय़ों की भ्रान्ति उन्हें प्रोत्साहन करने पर बल दिया। उन्होंने कहा कि दिव्यांगजनों के बैकलॉग भर्ती के साथ राजकीय सभी विभागों में उन्हें दी जाने वाली नौकरियों में उनके इच्छानुसार कार्यस्थल दिलवाने में सभी विभाग संवेदनशीलता बरतें। उन्होंने सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिये की वे शकुन्तला विश्वविद्यालय, लखनऊ का अवलोकन करें और वहां दी जा रही सुविधाओं को यहां पर भी क्रियाशील कर अमल में लाए।
केन्द्रीय मुख्य आयुक्त पाण्डे ने दिव्यांगजन व्यक्तियों के जीवन में सुधार लाने के लिए शिक्षा, रोजगार, चिकित्सा सहित अन्य विभागों की महती भूमिका बताते हुये कहा कि वे संवेदनशील रहकर उनके जीवन में सुधार लाने के विशेष प्रयास करे। इस अवसर पर सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के निदेशक डॉ. समित शर्मा ने बताया कि प्रदेश में दिव्यांगजनों के अधिकार दिलाने और उनकी समस्या के निदान के लिए राज्य सरकार के सभी विभाग कटिबद्ध रहकर कार्य कर रहे हैं।
उन्होंने बताया कि हाऊसिंग योजनाओं, निजी क्षेत्र में रोजगार, उद्योगों में नियमानुसार लाभ दिलवाने के साथ प्रदेश में सुगम भारत अभियान के तहत निर्माणाधीन भवनों में दिव्यांगजनों की सुविधाओं को ध्यान में रखते हुये निर्माण कार्य करवाये जा रहे हैं तथा समय-समय पर दिव्यांगजनों की भलाई के लिये विशेष शिविर आयोजित कर उन्हें लाभान्वित करवाया जा रहा है तथा केन्द्र सरकार से प्राप्त निर्देशानुसार कार्य कराए जा रहे हैं। इस अवसर पर नि:शक्तजन आयुक्त धन्नालाल पुरोहित, अतिरिक्त मुख्य सचिव उच्च शिक्षा राजहंस उपाध्याय सहित वित्त, नगरीय विकास, उद्योग, ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज, परिवहन, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य, कार्मिक, खाद्य एवं आपूर्ति विभाग सहित अन्य विभागों के अधिकारी बैठक में उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *