चित्तौड़ पंचायत समिति में असंतोष के स्वर, साधारण सभा की बैठक का बहिष्कार

चित्तौड़ पंचायत समिति में असंतोष के स्वर, साधारण सभा की बैठक का बहिष्कार

चित्तौडग़ढ़ (विवेक वैष्णव)। जैसे जैसे राज्य में चुनाव नजदीक आते जा रहे है वैसे वैसे सत्तारूढ़ पार्टी के खिलाफ विरोध के स्वर मुखर होते जा रहे है। हाल ही में जिले की बड़ीसादड़ी नगर पालिका में भाजपा का बहुमत होने के बावजूद अंदरूनी कलह के चलते उपचुनाव में कांग्रेस पालिकाध्यक्ष की कुर्सी पर काबिज हो गई थी। शुक्रवार को पंचायत समिति की साधारण सभा की बैठक प्रस्तावित थी लेकिन असंतोष के चलते 21 में से मात्र चार सदस्य ही बैठक में पहुंचे तथा कोरम के अभाव में बैठक को निरस्त कर दिया गया। असंतुष्ट सदस्यों में बाद में एक वाटिका में पत्रकारों को अपनी पीड़ा से अवगत कराया।
पंचायत समिति की साधारण सभा की बैठक करीब सात माह बाद शुक्रवार को पंचायत समिति सभागार में प्रस्तावित थी। तय समय तक बैठक में भाग लेने के लिए सश्रारूढ़ भाजपा के 12 सदस्यों में से मात्र चार सदस्य ही पहुंचे। बैठक में भाग लेने पहुंचने वालों में प्रधान प्रवीणसिंह, उपप्रधान सी.पी. नामधराणी के साथ ही दो महिला सदस्य नेहा शर्मा तथा निर्मला ही सभागार में पहुंचे तथा कांग्रेस के 9 तथा भाजपा के 8 सदस्यों ने इस बैठक का बहिष्कार किया। नियत समय तक कोरम पूरा नहीं होने पर उपखण्ड अधिकारी तथा विकास अधिकारी ने बैठक स्थगित करने की घोशणा कर दी।
साधारण सभा का बहिष्कार करने वाले सभी 17 सदस्यों ने बाद में कपासन रोड स्थित एक वाटिका में पत्रकार वार्ता कर अपने असंतोष के कारण बताते हुए पंचायत समिति एवं प्रधान की कार्यप्रणाली पर सवालिया निषान लगायें। साधारण सभा का बहिष्कार करने वाले सत्तारूढ़ भाजपा तथा कांग्रेस सदस्यों ने एक स्वर में अपने असंतोष के कारण बताए। कांग्रेस के साथ ही भाजपा सदस्यों ने उपेक्षा तथा उनके द्वारा प्रस्तुत विकास कार्यों के प्रस्ताव की अनदेखी को मुख्य कारण बताया। भाजपा सदस्यों ने बताया कि उनसे सिर्फ प्रस्तावों के अनुमोदन के लिए हस्ताक्षर लिये जाते है बाकी उनकी उपेक्षा की जाती है। उनके द्वारा प्रस्तुत विकास कार्यों के प्रस्तावों की ओर कोई ध्यान नही दिया जाता है तथा बजट का अभाव बताते हुए उनके प्रस्तावों को दरकिनार कर दिया जाता है। क्षेत्र की जनता ने उन्हे विकास कार्यों के लिए चुनकर सदन में भेजा है लेकिन क्षेत्र के विकास की ओर कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है। कांग्रेस सदस्यों ने बताया कि सदन में उनकी तथा उनके मुद्दों की उपेक्षा की जाती है। उनके क्षेत्र में होने वाले लोकार्पण एवं समारोह में कांग्रेस सदस्यों के नाम तक नहीं दिये जाकर भेदभावपूर्ण व्यवहार किया जाता है। कांग्रेस सदस्य के किसी भी प्रस्ताव पर कोई स्वीकृति नहीं दी जाती है।
साधारण सभा का बहिष्कार करने वालों में सत्तारूढ़ भाजपा के झमकुलाल, लीलाशंकर सिंह, सुखी देवी, विक्रम, रतनी देवी, कविता सहित आठ सदस्य शामिल थे। वही कांग्रेस के सदन में नेता प्रतिपक्ष रविराजसिंह खेरी, रतनलाल, संगीता, भगवती देवी रेगर, राजेन्द्र कुमार भट्ट, दिनेष, चन्दा देवी, राजकुमार तथा नारायणी देवी शामिल थे।
सश्रारूढ़ भाजपा के पंचायत समिति सदस्य तथा प्रधान के दावेदार रहे जिला उपाध्यक्ष रणजीतसिंह भाटी भी कपासन रोड़ स्थित वाटिका में मौजूद थे लेकिन वे स्पश्टीकरण देते हुए दिखे कि जिलाध्यक्ष रतनलाल गाडरी के कहने पर पार्टी पदाधिकारी के नाते वे सदस्यों को समझाने आए हंै। स्वयं भाटी ने भी सरकारी गाड़ी के दुरूपयोग की बात कही है। उन्होंने नियमों का हवाला देते हुए कहा कि नियमानुसार एक माह में 6 दिन ही प्रधान सरकारी गाड़ी का उपयोग कर सकते हैं लेकिन यहां प्रधान नियम विपरीत निरन्तर सरकारी गाड़ी का निजी उपयोग कर रहे हैं।
इनका कहना है…
कांग्रेस सदस्यों द्वारा सदन में विगत तीन वर्षों में रखे प्रस्तावों की आज तक निरन्तर उपेक्षा की जाती रही है और उनके प्रस्तावों पर किसी तरह की स्वीकृति भी नहीं दी जाती है। पंचायत समिति में धन का दुरूपयोग चरम पर है। प्रधान स्थानीय निवासी होने के बावजूद सरकारी आवास पर बेतहाषा एवं बेवजह अनुपयोगी खर्च कर सरकारी पैसे का दुरूपयोग कर रहे है। पंचायत समिति का सभागार पहले से ही सुव्यवस्थित एवं सुसज्जित है लेकिन हाल में बेवजह इसके जीर्णोद्धार के नाम पर बड़ी राशि खर्च की गई है जो भ्रश्टाचार की ओर संकेत करती है।
-रविराजसिंह खेरी, नेता प्रतिपक्ष एवं सदस्य, पंचायत समिति चित्तौडग़ढ़।
जिलाध्यक्ष रतनलाल गाडरी के निर्देश पर सदस्यों से समझाईष के लिए यहां पहुंचा हूं तथा विकास अवरूद्ध होने तथा सदस्यों की उपेक्षा की शिकायत से जिलाध्यक्ष को अवगत करा दिया है। मैं पार्टी का सिपाही हूं लेकिन जनता ने हमें विकास के लिए चुनकर सदन में भेजा है।
-रणजीतसिंह भाटी, पंचायत समिति सदस्य व भाजपा जिला उपाध्यक्ष।
पदभार ग्रहण करने के बाद से निरन्तर पंचायत समिति हित में कार्य कर रहा हूं। मेरा निरन्तर प्रयास सबको साथ चलने का ही रहता है। परिवार में छोटी मोटी गलती होती रहती है जिन्हे हमें मिल बैठकर आपस में सुधारने का प्रयास करेंगे।
-प्रवीणसिंह राठौड़, प्रधान पंचायत समिति चित्तौड़।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *