बूंदी में तनाव: पूरे शहर में पुलिस तैनात, लाठी चार्ज, कई गिरफ्तारियां

बूंदी में तनाव: पूरे शहर में पुलिस तैनात, लाठी चार्ज, कई गिरफ्तारियां

जयपुर। बूंदी टाइगर हिल पर सोमवार को हिंदू महासभा की ओर से मानधाता की छतरी पर बालाजी शिलाखंड की पूजा के ऐलान को देखते हुए पुलिस का भारी दल मौजूद रहा। इस दौरान बड़ी संख्या में लोग मंदिर पहुंचे। यहां पिछले दो दिन से धारा 144 लागू है। बड़ी संख्या में पहुंचे लोगों को खदेडऩे के लिए पुलिस को लाठीचार्ज भी करना पड़ा।

बीती देर रात पुलिस ने इस मामले में समझाइश का आखिरी प्रयास किया गया था, लेकिन सफलता नहीं मिली थी। ऐसे में तनाव की स्थिति बरकरार है। महासभा पदाधिकारियों ने कहा था कि हम मार्च नहीं निकालेंगे, कार्यक्रम में कुछ बदलाव के अनुसार अपना कार्यक्रम करेंगे। इसके लिए अतिरिक्त फोर्स बुलाई है। देर रात सीआई अभिषेक पारीक, कोतवाल रामनाथ गुर्जर, तहसीलदार केसरसिंह ने अभयनाथ मंदिर में पहुंचकर पूजा समर्थकों से बातचीत की थी। इस वार्ता में कोई नतीजा नहीं निकल पाया। वार्ता फेल होने के बाद पूजा समर्थकों की गिरफ्तारियां तय हो गईं थी।

1917 में की जाती थी पूजा: विहिप
विवाद के कारण यहां पूजा करने पर प्रशासन ने रोक लगा रखी है। विहिप पदाधिकारियों का दावा है कि पुराने जमाने में मानधाता छतरी में देव प्रतिमाएं स्थापित थीं, पुजारी और आम नागरिक पूजा करते थे। वर्ष 1917 में आकाशीय बिजली से ये क्षतिग्रस्त हो गई, अवशेष मलबा पड़ा रहा, बाद में कुछ असामाजिक तत्वों ने अवशेष तालाब में फैंक दिए, कुछ बच गए। हाल ही वन विभाग ने वहां रेस्टोरेशन शुरू किया तो बालाजी प्रतिमा दास मुद्रा में मिली, सूचना देने पर प्रशासन ने चबूतरे पर स्थापित करा दी। प्रशासन की जांच में प्रतिमा छतरी के समकालीन पाई गई है। टाइगर हिल वन विभाग के अधिकार क्षेत्र में है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *