नगर पालिका स्तर का मामला सासंद को लोकसभा में उठाना पड़ा: आवारा पशुओं पर बोली संतोष अहलावत

नगर पालिका स्तर का मामला सासंद को लोकसभा में उठाना पड़ा: आवारा पशुओं पर बोली संतोष अहलावत

जयपुर। हालात ये हो चुके हैं कि नगर पालिका स्तर के मामलों को सांसद लोकसभा में उठा रहे हैं। लगता है कि स्थानीय निकायों के स्तर की समस्याएं स्थानीय निकाय दूर नहीं कर पा रहे हैं और इस वजह से झुंझुनू सांसद संतोष अहलावत ने बुधवार को संसद में शून्य काल के दौरान देश में आवारा पशुओं से किसानों को रहे नुकसान का मुद्दा उठाना पड़ा। अपने लिखित वक्तव्य में सांसद संतोष अहलावत ने केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री तथा केंद्रीय वन एवं जलवायु मंत्री से आग्रह किया कि दोनों मंत्रालय संयुक्त रूप से मिल एक आवारा पशुओं के कारण किसानों को होने वाली समस्या से उनको निजात दिलाया जाये तथा आवारा पशुओं का भी संरक्षण किया जा सकें।

अहलावत ने अपने वक्तव्य में सदन को बताया कि आवारा पशुओं द्वारा किसानों की खड़ी फसलों को बर्बाद कर दिया जाता है। सांसद नेे कहा की यह मुद्दा केवल राजस्थान, उत्तर प्रदेश, गुजरात या मध्य प्रदेश का ही नहीं बल्कि पूरे भारत के किसानों का है। किसान बड़ी मेहनत और कठिन परिश्रम से अपनी फसल को उगाता है परन्तु आवारा पशुओं द्वारा एक ही रात में सारी की सारी फसल बर्बाद कर दी जाती है। इस समस्या से बचने के लिए कुछ सम्पन किसानों द्वारा तार बंदी की जाती है जिस कारणवश पशुओं द्वारा जिन खेतों की तार बंदी नहीं है उनको नुक्सान पहुंचाया जाता है। राज्य सरकारों द्वारा विभिन्न योजनाओ के जरिये तार बंदी के लिए किसानों की मद्दद भी की जाती है और काफी बार आवारा पशुओं को जंगल में भी छोड़ा जाता है। परन्तु पशुओं द्वारा खाने की खोज उन्हें जंगलों से बाहर आने के लिए मजबूर करती है और आवारा पशुओं द्वारा किसानो की फसलों को उजाड़ दिया जाता है।

अंत में सांसद संतोष अहलावत ने अध्यक्ष के माध्यम से कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री तथा पर्यावरण वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्री से आग्रह किया की दोनों मंत्रालय संयुक्त रूप से किसानों को इस परेशानी बचने के लिए कोई स्थाई समाधान निकाले जिससे ना सिर्फ किसान अपनी फसल को बर्बाद होने से बचा पाए साथ ही साथ पशुओं का भी संरक्षण किया जा सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *