प्रदेश को काबिल प्रदेश बनाने को तैयार हो जाओं-राजे

प्रदेश को काबिल प्रदेश बनाने को तैयार हो जाओं-राजे

-राजस्थान को सबसे अग्रणी राज्य बनाना है
चित्तौडग़ढ़ (विवेक वैश्णव)। निवेशक राजस्थान में निवेश करने को आतुर है और हम राजस्थान को देश का सबसे अग्रणी प्रदेष बनाने की चुनौती लेने को तैयार है। धर्म के बिना राजनीति आगे नही बढ़ सकती है और हमारी जिन्दगी को सफल करना है तो ज्यादा से ज्यादा संतों का समागम एवं सानिध्य करो। यह बात राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे ने रविवार दोपहर को ईनाणी सिटी सेन्टर में आयोजित संत आशीर्वाद एवं समागम सम्मेलन में मौजूद हजारों जनमैदिनी को संबोधित करते हुए कही।

संत आशीर्वाद एवं समागम सम्मेलन में लगभग 20 मिनिट के अपने संक्षिप्त संबोधन में मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे ने कहा कि इतिहास और ईश्वर ही हमारा भला कर सकता है। हमारी संस्कृति में यज्ञ, तप और जप से ही वातावरण शुद्ध होता है। उन्होंने कहा कि यदि हम आपसी भाईचारा बनाये रखे, जाति पाति को जोडऩे का काम, परिवार को बनाये रखने का काम करेंगे तो हमारा प्रदेश व देश बहुत आगे तक जायेगा और विकास की नई परिभाषा लिखेगा। उन्होंने कहा कि निवेशक यहां आने को आतुर है। हमें राजस्थान को ऐसा प्रदेश बनाना हैं जहां किसी तरह का झगड़ा-फसाद ना हो। यदि ऐसा वातावरण बनता है तो निवेशक भी निवेश करने में तनिक भी नहीं हिचकिचाते हैं। उन्होंने जनता से अपील की कि वे प्रदेश को काबिल बनाने के लिए तैयार हो जाएं। राजस्थान को देश का सबसे अग्रणी राज्य बनाने की चुनौती लेने के लिए राज्य की जनता तैयार है। स्वागत उद्बोधन देते हुए क्षेत्रीय विधायक चन्द्रभानसिंह आक्या ने कहा कि मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे ने इन चार सालों में रोड़ निर्माण, स्कूल क्रमोन्नत, हास्पीटल में अत्याधुनिक सुविधाओं सहित बहुत कुछ चित्तौड़ को दिया है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने बहुत कम समय में बहुत कुछ दिया है साथ ही यह भी मांग की है कि आवागमन सुगम बनाने के लिए कपासन चौराहे से मानपुरा रोड की स्वीकृति जल्दी दिलाई जाए। क्षेत्रीय सांसद सी.पी. जोशी ने जनता की ओर से मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि सरकार में सहभागिता का जो अकाल जिले में पड़ा हुआ था वो मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे ने निम्बाहेड़ा विधायक श्रीचंद कृपलानी को महत्वपूर्ण विभाग की जिम्मेदारी देकर सुकाल में बदल दिया है। जोशी ने पाठ्य पुस्तकों में महाराणा प्रताप महान के अध्यायों को जोडऩे के लिए भी राज्य की मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त किया। सांसद ने कहा कि केन्द्र व राज्य की भाजपा सरकार के बदौलत आज चित्तौड़ रेलवे, सड़क, हैरिटेज व किसानों के मामले में अग्रणी श्रेणी में पहुंच गया है। राज्य के केबिनेट मंत्री श्रीचंद कृपलानी ने अपने उद्बोधन में कहा कि इन चार वर्षों में मुख्यमंत्री राजे ने जिले का सर्वाधिक विकास किया है। साथ ही उन्होंने मुख्यमंत्री से चरनोट भूमि को बिलानाम करने तथा गंभीरी रिवर फ्रंट प्रोजेक्ट को शीघ्र स्वीकृति दिलाने की भी मांग से की है।

दो योजनाओं का किया शिलान्यास
मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे ने अपने तीन घण्टे के संक्षिप्त दौरे के दौरान शहर की दो सौगातों का शिलान्यास किया। मुख्यमंत्री ने दुर्ग पर लगभग 5 करोड़ रुपए की लागत से बनने वाली 12 किलोमीटर रिंग रोड़ का दुर्ग पर ही शिलान्यास किया। बाद में समारोह स्थल पर शहर के घटियावली रोड़ से चामटी खेड़ा रोड को जोडऩे वाले हाई लेवल ब्रिज का रिमोट द्वारा शिलान्यास किया। मुख्यमंत्री राजे ने कहा कि सरकार मेवाड़ के हरिद्वार मात्रिकुण्डिया के जीर्णोद्धार के लिए प्रथम चरण में 4.5 करोड़ रुपए खर्च करने जा रही है और आगामी छह से आठ महिने में यह कार्य पूर्ण हो जायेगा।

इतिहास और ईश्वर से ही हमारा भला
मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे ने कहा कि इतिहास और ईश्वर ही हमारा भला कर सकते हंै। उन्होंने बताया कि इतिहास से हमें कोई दूर नहीं कर सकता है इसलिए पूरे प्रदेश में 100 करोड़ रुपए की लागत से पेनोरेमा के निर्माण किये जा रहे है। 551 करोड़ रुपए की लागत से मंदिरों का जीर्णोद्धार करवाये जा रहे है। चरागाह भूमि के मामले में मुख्यमंत्री ने बताया कि शहरी क्षेत्र के लिए यूआईटी एक्ट को अमेन्ड करने का काम चालू कर दिया गया है और ग्रामीण क्षेत्र की भूमि के लिए रेवेन्यू विभाग को काम सौंपा गया है।

दिया सादगी का परिचय
मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे तथा बांसवाडा से आए उत्तम स्वामी महाराज के लिए मंच पर विशेष कुर्सी लगवाई गई थी। मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे ने मंच पर पहुंच अपनी सादगी का परिचय देते हुए विशेष कुर्सी को हटवाया तथा सामान्य कुर्सी लगवाकर पूरे समय बैठी रही। संतों के सामने मुख्यमंत्री ने अपने उद्बोधन को भी सीमित रखते हुए मात्र 20 मिनिट ही संबोधित किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *