परम्परा: गौमाता को खिलाई गई लापसी, मेहंदी लगाकर की पूजा

परम्परा: गौमाता को खिलाई गई लापसी, मेहंदी लगाकर की पूजा

चित्ताौडग़ढ़ (विवेक वैष्णव)।

कुमावत विकास एवं सेवा संस्थान के तत्वावधान में दानपुण्य एवं धार्मिक दृष्टि से महत्वपूर्ण पर्व मकर संक्रान्ति से पूर्व गौमाता की वैदिक मंत्रोचार द्वारा पूजा कर तीन क्विंटल गुड़ से निर्मित गेहूं की लापसी एवं रजका खिलाया गया।

संस्थान के सचिव मदनलाल खनारिया के अनुसार गांधीनगर स्थित गौशाला में हजारेश्वर महादेव मंदिर के महंत चद्रभारती महाराज की मौजूदगी में गौमाता को तीन क्विंटल गुड़ से निर्मित गेहूं की लापसी एवं रजका खिलाया गया। गौमाता को लापसी खिलाए जाने से पूर्व श्री कुमावत महिला जाग्रति सेवा संस्थान, चित्तौडग़ढ़ की महिला पदाधिकारियों द्वारा गायों को मंगल गीत गाते हुए मेहंदी लगाई गई। इस दौरान संस्थान अध्यक्ष रमेशचन्द्र खनारिया, उपाध्यक्ष शिवलाल अडानिया, कोषाध्यक्ष घनश्याम खनारिया, शिक्षाविद डॉ. श्यामसिंह मण्डलिया, सह सचिव राजकुमार बेरा, संरक्षक भैरूलाल सुरलिया, शंकरलाल सुवारिया, रोडूलाल कड़वाल, भैरूलाल धनेरिया, इन्द्रमल सिंगनवाल, मदनलाल कुराडिय़ा, महिला जाग्रति सेवा संस्थान अध्यक्षा सुलोचना कड़वाल, सचिव निर्मलादेवी सरवा, कोषाध्यक्ष रूकमण चंगेरिया, क्षेत्रीय पार्षद अनुराधा वैष्णव सहित संस्थान के पदाधिकारी, सदस्य एवं खेरी, घटियावली, खरड़ी बावड़ी आदि क्षेत्रों से आए समाजजन मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *