अटल सेवा केन्द्रों के नाम फिर से राजीव गांधी पर होंगे, welcome by ex cm ashok gahlot

अटल सेवा केन्द्रों के नाम फिर से राजीव गांधी पर होंगे, welcome by ex cm ashok gahlot

-राज्य सरकार द्वारा 2014 में जारी किया नाम हटाने वाला आदेश निरस्त

जयपुर। राजस्थान उच्च न्यायालय ने शुक्रवार को राजीव गांधी सेवा केंद्र का नाम बदलने वाले सरकार के फैसले को निरस्त कर दिया। राज्य सरकार ने 28 दिसंबर 2014 को नोटिफिकेशन जारी करते हुए राजीव गांधी सेवा केंद्र का नाम बदलकर अटल सेवा केंद्र कर दिया था। सरकार के इस आदेश को हाईकोर्ट ने निरस्त कर दिया है।

जस्टिस एमएन भंडारी की अदालत ने संयम लोढ़ा की याचिका पर सुनवाई करते हुए यह फैसला सुनाया है। वहीं मामलें में अदालत ने सुझाव दिया है कि ऐसी स्थिति फिर से उत्पन्न नहीं हो ऐसे में स्वाधीनता सेनानियों के नाम पर नाम रखे जाएं। इस मामले में संयम लोढ़ा की याचिका पर प्रार्थी की ओर से अधिवक्ता पुनीत सिंघवी ने पैरवी की।

आमजन की सुविधा के लिए पंचायत स्तर तक खोले गए जन सुविधा और राजीव गांधी सेवा केंद्रों की शुरुआत पिछली कांग्रेस सरकार की ओर से की गई थी। इन केंद्रों के नाम बदलकर अटल सेवा केंद्र करने की घोषणा सीएम वसुंधरा राजे ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के जन्मदिन पर की थी। इस घोषणा के तीन दिन बाद ही ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज विभाग के प्रमुख शासन सचिव श्रीमत पाण्डेय की ओर से इस संबंध में आदेश जारी कर दिए गए थे। कांग्रेस सरकार ने जिला मुख्यालयों पर जन सुविधा केन्द्र और पंचायत समिति एवं ग्राम पंचायतोंं पर भारत निर्माण राजीव गांधी सेवा केन्द्र भवनों का निर्माण मनरेगा बजट से किया था। सीएम की घोषणा के बाद 9500 ऐसे केंद्रों के नाम बदल कर अटल सेवा केन्द्र कर दिए गए।

उच्च न्यायालय के निर्णय का स्वागत: गहलोत

पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने भाजपा के सरकार में आते ही राजीव गांधी सेवा केन्द्रों का नाम बदलकर अटल सेवा केन्द्र करने के निर्णय को निरस्त कर पुन: राजीव गांधी सेवा केन्द्र करने के राजस्थान उच्च न्यायालय के निर्णय का स्वागत किया है। गहलोत ने कहा कि जब-जब भी भाजपा सरकार सत्ता में आई है, इन्होंने विकास करने की बजाय कांग्रेस सरकार के लोकप्रिय कार्यों/योजनाओं का नाम बदलने का काम प्राथमिकता से किया है। पूर्व में भी जब भाजपा सरकार आई थी तो जयपुर के राजीव गांधी शिक्षा संकुल का नाम बदल दिया था जबकि संकुल का शिलान्यास एवं उद्घाटन दोनों राजीव गांधी शिक्षा संकुल के नाम से हुए थे। इसी प्रकार राजीव गांधी स्वर्ण जयंती पाठशालाओं से भी राजीव गांधी का नाम हटा दिया था। इस कार्यकाल में राजीव गांधी सेवा केन्द्रों के अलावा इंदिरा प्रियदर्शिनी योजना, वरिष्ठ नागरिक तीर्थ यात्रा योजना, शुभ लक्ष्मी योजना सहित कई योजनाओं/विश्वविद्यालयों के नाम बदले गये हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *