पद्मावत विवाद: सुप्रीम कोर्ट में राजस्थान और मध्यप्रदेश की याचिका खारिज

पद्मावत विवाद: सुप्रीम कोर्ट में राजस्थान और मध्यप्रदेश की याचिका खारिज

source tv chenalas

 

जयपुर। पद्मावत फिल्म पर राजस्थान और मध्यप्रदेश की सरकारों को मंगलवार को उस समय झटका लगा जब सुप्रीम कोर्ट ने दोनों की याचिकाओं को यह कहते हुए खारिज कर दिया कि इस पर कोर्ट पूर्व में निर्णय दे चुकी है। इस दौरान सुप्रीम कोर्ट द्वारा सरकार को लताड़ भी लगाई गई।

दूसरी तरफ फिल्म की रिलीज में महज दो दिन बचे हैं और फिल्म के विरोध में प्रदेश में प्रदर्शन भी लगातार जारी है। मंगलवार को सवाई माधोपुर में करणी सेना ने विरोध प्रदर्शन किया। सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद करणी सेना के सुप्रीमो लोकेंद्र सिंह कालवी का कहना है कि अब हमें किसी और से नहीं बल्कि सिनेमाहॉल के मालिकों से उम्मीद है कि वो इस फिल्म को ना लगाएं।
दूसरी तरफ गृहमंत्री गुलाबचंद कटारिया ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट में याचिका लगाई गई थी। जिसे खारिज कर दिया गया। अब लॉ एंड ऑडर को संभालना मेरी और मेरी टीम की जिम्मेदारी है। उधर सिनेमाघरों के संचालक पहले ही इस विवाद से खुद को दूर कर चुके हैं। फिल्म वितरकों ने भी इस फिल्म से खुद को दूर कर लिया है। अधिकांश सिनेमाहॉल संचालकों ने कहा है कि भले ही सुरक्षा दी जाए, लेकिन वे फिल्म का प्रदर्शन नहीं करेंगे।

राजस्थान में प्रमुख फिल्म वितरकों ने फिल्म वितरण से इनकार कर दिया है। मरुधर साइन एंटरटेनमेंट ने अपने एक लाइन के प्रेस रिलीज में कहा है कि फिल्म पद्मावत का वितरण नहीं करेंगे। यशराज जय पिक्चर्स ने भी फिल्म के वितरण से इनकार किया है। फिल्म वितरक और कंपनी के निदेशक राज बंसल ने भी राज्य में वितरण से मना कर दिया है। फिल्म वितरकों ने राज्य सरकार को इसकी जानकारी लिखित में दी है। राजमंदिर सिनेमा हॉल के मैनेजर अशोक तंवर का कहना है कि वे पद्मावत फिल्म को सिनेमा हॉल में नहीं लगाएंगे। वे इसकी घोषणा पूर्व में ही कर चुके हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *