बालकों की सुरक्षा के लिए जल्दी ही ‘जयपुर घोषणा: दूसरे राज्य और जिलों के लिए होंगे आदर्श दिशा निर्देश: Jaipur Declaration for the Protection of Children: Ideal Guidelines for Other States and Districts

बालकों की सुरक्षा के लिए जल्दी ही 'जयपुर घोषणा: दूसरे राज्य और जिलों के लिए होंगे आदर्श दिशा निर्देश:  Jaipur Declaration for the Protection of Children: Ideal Guidelines for Other States and Districts

जयपुर। राज्य के विद्यालयों के छात्र-छात्राओं की बहुआयामी सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए बुधवार को शासन सचिवालय में सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव, जे.सी. महान्ती, की अध्यक्षता में बैठक आयोजित की गई।

बैठक में शहर के 11 प्रमुख विद्यालयों के प्राचार्य एवं निदेशक ने भाग लिया। महान्ती ने बताया की राजस्थान सरकार के द्वारा वर्ष 2013 में बालकों की दुव्र्यवहार से सुरक्षा हेतु दिशा-निर्देश जारी किये गये है। इसका विस्तृत अध्ययन कर जयपुर के विद्यालयों के छात्र-छात्राओं की सुरक्षा की दृष्टि से आदर्श विद्यालय बनाने के लिए जयपुर घोषणा तैयार किया जाएगा जो कि अन्य शहरों एवं राज्यों के लिये एक आदर्श दिशा-निर्देश होगा।

बैठक में स्कूल बसों में चालकों का नियमित सत्यापन, बसों में एक शिक्षक की उपस्थिति, गत दिनों विद्यालयों के शौचालयों में हिंसा की घटनाओं को देखते हुये विद्यालय एवं छात्रावासों के शौचालयों में विशेष निगरानी रखने हेतु सीसीटीवी लगाने का सुझाव दिया गया तथा हेल्प लाईन नम्बर का लिखना, प्रथम उपचार बॉक्स आदि का सुझाव दिया गया। इसी प्रकार छात्रों के भ्रमण, पिकनिक आदि के समय विशेष निगरानी, छात्रावासों में शुद्ध खाद्य एवं पेयजल की व्यवस्था आदि सुनिश्चित करने पर भी जोर दिया गया। बैठक में विद्यालय के शिक्षकों एवं स्टॉफ सदस्यों को विद्यालय के प्रबन्धन की बिना अनुमति मोबाईल फोन अथवा इन्टरनेट के माध्यम से छात्र-छात्राओं से सम्पर्क करने पर प्रतिबन्ध लगाना सोशियल मीडिया से सम्भावित असुरक्षा पर विशेष

ध्यान देना, बच्चों के माता-पिता एवं संरक्षकों के साथ नियमित बैठक करना, शिकायत दर्ज कराने हेतु सुविधायें उपलब्ध कराना।
जयपुर घोषणा में एक विशेष प्रावधान के बारे में सुझाव दिया गया कि प्रत्येक विद्यालय में नियमित रूप से छात्र-छात्राओं की सुरक्षा ऑडिट की जाये। बाहरी एजेन्सी के नियंत्रण के स्थान पर विद्यालय के प्राचार्य एवं प्रबन्धन को स्वंय के स्तर पर प्रभावी आत्म नियंत्रण करना होगा।

बैठक में सेव द चिल्ड्रन, यूनिसेफ, अन्ताक्षरी, महारानी गायत्री देवी स्कूल, जानकी देवी पिब्लक स्कूल, यूरो किड्स स्कूल, महेश्वरी पब्लिक स्कूल, चिल्ड्रन्स एकेडमी, पौदार वल्र्ड स्कूल, राजस्थान सीनियर टीचर्स एसोशियन, विद्या आश्रम, भारतीय विद्या भवन, यातायात विभाग, पुलिस विभाग, शिक्षा विभाग, श्रम विभाग बाल अधिकारिता विभाग के अधिकारी एवं जनप्रतिनिधि उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *