मुख्यमंत्री ने ‘ग्राम एमओयू के तहत स्थापित इकाई का शुभारंभ किया

मुख्यमंत्री ने 'ग्राम एमओयू के तहत स्थापित इकाई का शुभारंभ किया

-कृषि आधारित उद्योगों से किसानों को मिलेगा सीधा लाभ: मुख्यमंत्री

जयपुर/कोटा। मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे ने कहा कि प्रदेश में कृषि आधारित उद्योगों की स्थापना से ग्रामीणों और किसानों को सीधा लाभ मिलेगा और उनकी आर्थिक स्थिति मजबूत होगी। उन्होंने कहा कि सरकार ऐसे उद्योगों को प्रोत्साहन दे रही है जिससे किसानों को कृषि जिन्सों का उचित मूल्य मिले और उद्यमियों को भी फायदा हो।

मुख्यमंत्री बुधवार को कोटा जिले के ग्राम कसार में ग्लोबल राजस्थान एग्रीटेक मीट ग्राम-कोटा में हुए 40 करोड़ रुपये के एमओयू के तहत गोयल वेज ऑयल लिमिटेड की द्वितीय इकाई के शुभारंभ समारोह में जनसमूह को संबोधित कर रही थीं। उन्होंने कहा कि छोटे-छोटे उद्योगों के विकास से ही प्रदेश के समग्र विकास का सपना पूरा होगा।

राजे ने कहा कि प्रदेश के सर्वांगीण विकास के लिए सभी की भागीदारी के साथ आगे बढऩे की जरूरत है। उन्होंने कहा कि उद्योगों में नई तकनीकी अपनाने से कम लागत के साथ गुणवत्तापूर्ण उत्पाद मिलेंगे। ऐसी औद्योगिक इकाइयों से स्थानीय लोगों को सीधा रोजगार मिलेगा तथा किसान एवं दूसरे रोजगारों में लगे आसपास के ग्रामीण भी लाभान्वित होंगे।

मुख्यमंत्री ने इससे पूर्व विधिवत मंत्रोच्चार के साथ पूजा-अर्चना कर तथा बटन दबाकर द्वितीय इकाई का शुभारम्भ किया। उन्होंने इकाई में तेल शोधन प्रक्रिया का अवलोकन भी किया। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह सरकार्यवाह सुरेश सोनी ने कहा कि विकास के लिए नई तकनीक को अपनाने से उद्यमियों को लाभ होने के साथ-साथ देश-प्रदेश का भी तेजी से विकास होता है। उन्होंने कहा कि भारतीय संस्कृति में हमेशा पर्यावरण संरक्षण की भावना रही है। परिवार एवं समुदाय हमेशा अपने आसपास के वातावरण एवं जीव जन्तुओं के पालन को भी प्राथमिकता देते रहे हैं। उन्होंने उद्यमियों को सभी वर्गों के कल्याण को ध्यान में रखकर लक्ष्य के साथ आगे बढने की बात कही।

गौवत्स श्रीराधाकृष्ण महाराज ने समन्वित विकास के साथ आगे बढऩे की बात कही। उन्होंने व्यापार के स्वरूप को क्षेत्र, समाज, पर्यावरण के संरक्षण एवं विकास को ध्यान में रखकर आगे बढ़ाने का आह्वान किया। गोयल वेज ऑयल के चेयरमैन प्रकाशचंद गोयल ने अतिथियों का स्वागत किया तथा प्रबंध निदेशक ताराचंद गोयल ने प्रतिवेदन प्रस्तुत किया।

हेलिकॉप्टर से गेंता-माखीदा पुल का अवलोकन

मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे ने बुधवार को कोटा जिले के गेेंता और बूंदी जिले के माखीदा के बीच बन रहे पुल का हवाई सर्वेक्षण किया। इस पुल के निर्माण से सवाईमाधोपुर व लाखेरी की तरफ से इटावा, बारां, झालावाड़ तथा मध्यप्रदेश के शिवपुरी जाने के लिए लगभग 70 किमी की दूरी कम हो जाएगी। वहीं कोटा जिले के गेंता (इटावा) निवासियों के लिये 55 किमी और बारां से वाया कोटा होकर लाखेरी आने वाले यात्रियों के लिए 62 किमी का सफर कम हो जायेगा। मुख्यमंत्री ने जयपुर पहुंचकर पीडब्ल्यूडी मंत्री यूनुस खान को पुल का काम निर्धारित समय सीमा में पूरा करवाने के निर्देश दिए।

हीरालाल नागर एवं कांति जैन परिवार के विवाह समारोह में शामिल हुई

मुख्यमंत्री ने कोटा प्रवास के दौरान सांगोद विधायक हीरालाल नागर के इन्द्रा विहार स्थित आवास एवं व्यापार महासंघ के अध्यक्ष कांति जैन के बूंदी रोड स्थित फार्म हाउस पहुंचकर परिवार में शादी समारोह में शुभकामनाएं दी।

धारीवाल के घर पहुंचकर संवेदना व्यक्त की

राजे ने कोटा प्रवास के दौरान पूर्व गृह मंत्री शांति धारीवाल के भतीजे शेखर धारीवाल के 2 फरवरी को हुए आकस्मिक निधन पर उनके राजभवन रोड स्थित आवास पहुंचकर सांत्वना व्यक्त की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *