कैबिनेट की बैठक: ओबीसी की सूची में पांच नई जातियां शामिल, अजा-अजजा वर्ग को लिपिक भर्ती के दोनों चरणों में 5 प्रतिशत अंकों की छूट

कैबिनेट की बैठक: ओबीसी की सूची में पांच नई जातियां शामिल, अजा-अजजा वर्ग को लिपिक भर्ती के दोनों चरणों में 5 प्रतिशत अंकों की छूट

जयपुर। राज्य मंत्रिमंडल की बैठक में सोमवार को ओबीसी में पांच हिन्दू जातियों को शामिल करने का महत्वपूर्ण निर्णय किया गया है। 2009 में नगारची, दमामी, राणा, बायती, बरोठ नाम कि हिन्दू जातियां शामिल होने से वंचित रह गई थीं।

दरअसल तत्कालीन गहलोत सरकार ने ओबीसी के नियमों मे संशोधन कर इन पांच जातियों को ओबीसी में शामिल तो कर लिया था लेकिन इन पांचों जातियों के साथ (कोष्ठक) में मुस्लिम शब्द लिख दिया था। जिसके चलते इन नामों की मुस्लिम जातियों को तो ओबीसी में आरक्षण मिल गया लेकिन हिंदूओं में भी इसी नाम की जो जातियां थी, वंचित रह गई थीं।

इन पांच जातियों को ओबीसी सर्टिफिकेट नहीं मिल रहे थे। सोमवार को राजस्थान विधानसभा भवन में हुई कैबिनेट बैठक में यह निर्णय लेते हुए गैर मुस्लिम इन पांचों जातियों को भी ओबीसी में शामिल कर लिया है। इसी तरह रायका, रेवासी और देबासी भी ओबीसी में शामिल हैं। इसमें संशोधन करते हुए देबासी को देवासी किया गया है। अब देबासी व देवासी दोनों को ओबीसी वर्ग का लाभ मिलेगा।

बैठक में लिपिक ग्रेड द्वितीय एवं शीघ्र लिपिक पद पर सीधी भर्ती परीक्षा के दोनों चरणों में अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति के अभ्यर्थियों को न्यूनतम अर्हक अंकों में 5 प्रतिशत की छूट देने सहित कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए। संसदीय कार्य मंत्री राजेन्द्र राठौड़ ने सोमवार को राज्य विधानसभा के प्रेस कक्ष में मीडिया को मंत्रिमण्डल की बैठक के महत्वपूर्ण निर्णयों की जानकारी देते हुए बताया कि राजस्थान अधीनस्थ कार्यालय लिपिकवर्गीय सेवा नियम 1999, राजस्थान सचिवालय लिपिकवर्गीय सेवा नियम 1970, राजस्थान लोक सेवा आयोग (लिपिकवर्गीय एवं अधीनस्थ) सेवा नियम और विनियम 1999 के अंतर्गत कनिष्ठ सहायक/लिपिक ग्रेड द्वितीय एवं शीघ्र लिपिक पद के लिए सभी अभ्यर्थियों को सीधी भर्ती परीक्षा के प्रथम चरण में 40 प्रतिशत तथा द्वितीय चरण में प्रत्येक पेपर में 36 प्रतिशत अंक लाना अनिवार्य है। अब राज्य में मंत्रालयिक सेवा संबंधी इन तीनों नियमों में नया प्रावधान करते हुए अनुसूचित जाति तथा अनुसूचित जनजाति के अभ्यर्थियों को सीधी भर्ती परीक्षा के दोनों चरणों के न्यूनतम अर्हक अंकों में 5 प्रतिशत की छूट देने का निर्णय किया गया है।

आबकारी अधीनस्थ सेवा (निवारक शाखा) नियम में संशोधन

संसदीय कार्य मंत्री ने बताया कि मंत्रिमण्डल की बैठक में राजस्थान आबकारी अधीनस्थ सेवा (निवारक शाखा) नियम, 1976 में संशोधन कर जमादार ग्रेड द्वितीय के 50 प्रतिशत पद सीधी भर्ती एवं 50 प्रतिशत पद पदोन्नति से भरने, सिपाही के 100 फीसदी पद एक्स सर्विस मेन के स्थान पर ओपन मार्केट से सीधी भर्ती द्वारा भरने तथा वाहन चालक के 75 प्रतिशत पद सीधी भर्ती एवं 25 प्रतिशत पद पदोन्नति द्वारा भरने का निर्णय लिया गया। इन पदों पर सीधी भर्ती में साक्षात्कार का प्रावधान हटाकर लिखित परीक्षा का प्रावधान करने के साथ ही सीधी भर्ती के पदों के लिए शारीरिक स्वस्थता एवं दक्षता परीक्षा के मापदण्डों को मंजूरी दी गई।

गौवंशीय पशुओं के अवैध परिवहन पर जब्त होगा उपयोग में लिया गया वाहन

राठौड़ ने बताया कि मंत्रिमण्डल ने राजस्थान गौवंशीय पशु (वध का प्रतिषेध और अस्थायी प्रव्रजन या निर्यात का विनियमन) अधिनियम, 1995 में संशोधन के प्रारूप को मंजूरी दी है। इस संशोधन से अधिनियम में धारा 6 (क) जोड़कर गौ वंशीय पशुओं के अवैध तरीके से निर्यात के उपयोग में लिए जाने वाले परिवहन के साधन को जब्त किया जा सकेगा।

तकनीकी विवि में यूजीसी नियमों से होगी कुलपति की नियुक्ति

राठौड़ ने बताया कि राजस्थान तकनीकी विश्वविद्यालय कोटा एवं बीकानेर में कुलपति की नियुक्तियां विश्वविद्यालय अनुदान आयोग के दिशा-निर्देशों के अनुसार करने के लिए राजस्थान तकनीकी विश्वविद्यालयों की विधियां (संशोधन) विधेयक को विधानसभा में पुर: स्थापित किए जाने की अनुमति प्रदान की गई। प्रथम कुलपति की नियुक्ति का अधिकार राज्य सरकार को होगा। धौलपुर के लाल बाजार स्थित राजकीय जिला आयुर्वेद चिकित्सालय के नाम को पूर्व की भांति राजकीय राजाबेटी जिला आयुर्वेद चिकित्सालय, धौलपुर किए जाने का निर्णय बैठक में लिया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *