एसएमएस ने कहा राज्यपाल को स्वाइन फ्लू, राज्यपाल ने किया खंडन

एसएमएस ने कहा राज्यपाल को स्वाइन फ्लू, राज्यपाल ने किया खंडन

बड़े अस्पताल की जांच रिपोर्ट की उच्चस्तरीय जांच के निर्देश

जयपुर। राज्यपाल कल्याण सिंह जयपुर के सबसे बड़े अस्पताल सवाई मानसिंह चिकित्सालय और दिल्ली के विख्यात अस्पताल अपोलो की रिपोर्ट के बीच पसोपेश में है। सवाई मानसिंह चिकित्सालय का दावा है कि राज्यपाल को स्वाइन फ्लू पॉजेटिव है जबकि अपोलो ने उन्हें स्वाइन फ्लू नेगेटिव बताया है।

अलबत्ता राज्यपाल ने स्वयं को स्वाइन फ्लू होने की खबर का खंडन करते हुए राज्य सरकार को सवाई मानसिंह चिकित्सालय की तरफ से जारी रिपोर्ट की उच्च स्तरीय जांच के लिए कहा है। इधर, प्रदेश में स्वाइन फ्लू का मिशिगन वायरस थमने का नाम नहीं ले रहा है। विधायक, मंत्री के बाद अब राज्यपाल कल्याण सिंह को भी स्वाइन फ्लू ने अपनी गिरफ्त में ले लिया है। राज्यपाल को लैब की जांच में स्वाइन फ्लू पॉजिटिव आने के बाद चिकित्सा विभाग सतर्क हो गया। उन्हें रविवार रात को ही दिल्ली रेफर कर दिया गया। राज्यपाल की स्वाइन फ्लू रिपोर्ट रविवार शाम को पॉजिटिव आई थी। इसके बाद चिकित्सा मंत्रालय हरकत में आया तथा उन्हें विशेष विमान से दिल्ली भेजा गया। राज्यपाल को दिल्ली के अपोलो हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है, जहां उनकी दोबारा जांच हुई लेकिन अपोलो अस्पताल ने अपनी रिपोर्ट में उनको स्वस्थ बताया है।

स्वास्थ्य मंत्रालय ने राज्य को स्वाइन फ्लू के लिए पहले से सचेत कर दिया था, लेकिन इसके बाद भी सतर्क नहीं होने का परिणाम यह है कि लगातार पॉजिटिव व मौत का ग्राफ में इजाफा हो रहा है। वर्तमान में राजस्थान स्वाइन फ्लू में पहले नंबर पर है। प्रदेश में स्वाइन फ्लू से इस साल अब तक 1100 पॉजिटिव में से 95 की मौत हो चुकी है।

राजभवन का दावा: राज्यपाल स्वस्थ

राज्यपाल कल्याण सिंह पूर्णत: स्वस्थ हैं। सिंह अभी दिल्ली में हैं। वे मंगलवार 6 मार्च को दिल्ली से अलीगढ़ जायेंगे। अलीग? में 7 मार्च को सिंह की पोती पूर्णिमा सिंह का विवाह समारोह है। राजभवन से जारी विज्ञप्ति में दावा किया गया है कि राज्यपाल सिंह को बदलते मौसम के प्रभाव से सामान्य सर्दी-जुकाम होने पर सवाई मानसिंह अस्पताल, जयपुर द्वारा जांच रिपार्ट में स्वाइन फ्लू पॉजीटिव बताये जाने पर अपोलो अस्पताल, दिल्ली में पुन: जांच कराई गई, जहां सिंह को स्वाइन फ्लू नहीं पाया गया। राज्यपाल सिंह की नियमित स्वास्थ्य जांच व उपचार का परामर्श अपोलो अस्पताल से लिया जाता है। एस.एम.एस. अस्पताल, जयपुर द्वारा दी गई जांच रिपार्ट को गम्भीरता से लिया है एवं ऐसा किन परिस्थितियों में हुआ, इसकी उच्चस्तरीय जाँच कराये जाने हेतु राज्य सरकार से आग्रह किया गया है। जांच के बाद अपोलो अस्पताल ने राज्यपाल कल्याण सिंह को घर जाने की अनुमति दे दी है।

एसएमएस अड़ा… राज्यपाल को है स्वाइन फ्लू

राज्यपाल कल्याण सिंह को स्वाइन फ्लू है या नहीं, इस पर असमंजस की स्थिति बनी हुई है। एसएमएस अस्पताल ने राज्यपाल को स्वाइन फ्लू बताया जबकि दिल्ली के अपोलो अस्पताल ने रिपोर्ट नेगेटिव बताई है। हालांकि एसएमएस अस्पताल प्रशासन ने राज्यपाल के सैंपल की दोबारा जांच की। जिसके बाद वो अपनी रिपोर्ट पर कायम है। उधर, इस मसले पर अब चिकित्सा मंत्री कालीचरण सराफ ने एसएमएस प्रशासन से पूरी रिपोर्ट तलब की है। मामले की गंभीरता समझते हुए एसएमएस मेडिकल कॉलेज प्रशासन जांच मशीन और स्टाफ की कार्यप्रणाली की जांच पड़ताल में जुट गया है। हालांकि अस्पताल अधीक्षक डॉ. डीएस मीणा ने कहा कि एसएसएस अस्पताल की मशीनें हाई टेक्निक है। ऐसे में गड़बड़ी के कोई चांस नहीं है, फिर भी जांच की जा रही है। राज्यपाल को ही नहीं इससे पहले सवाई मानसिंह अस्पताल अपनी जांच रिपोर्ट में विधायक अमृता मेघवाल को स्वाइन फ्लू से संक्रमित बताया था। हालांकि विधायक ने जब एक निजी अस्पताल में फिर से जांच करवाई तो वहां स्वाइन फ्लू की रिपोर्ट को खारिज करते हुए स्वाइन फ्लू नेगेटिव करार दिया गया था। इस पर एसएमएस मेडिकल कॉलेज प्राचार्य डॉ. यूएस अग्रवाल ने कहा कि दो-तीन दिन दवा लेने के बाद पॉजीटिव रिपोर्ट नेगेटिव आ सकती है। संभवत: उनके केस में यही हुआ हो और जहां तक बात राज्यपाल की रिपोर्ट की है तो उसकी जांच की जा रही है। इस बाबत उन्होंने अपोलो अस्पताल के डॉक्टर्स से चर्चा करने की बात भी कही है। एमएसएम प्रशासन की ओर से राज्यपाल के सैम्पल की दोबारा जांच करने पर भी रिपोर्ट पॉजीटिव ही आ रही है। ऐसे में मामला वाकई गंभीर हो चला है। गंभीर इसलिए कि यदि एक वीवीआईपी व्यक्ति की रिपोर्ट पर संशय के हालात बन सकते है तो, फिर आम आदमी का क्या होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *