सुकमा में शहीद हुए लक्ष्मण सिंह का राजकीय स मान से हुआ अंतिम संस्कार

सुकमा में शहीद हुए लक्ष्मण सिंह का राजकीय स मान से हुआ अंतिम संस्कार

अलवर। छत्तीसगढ़ के सुकमा जिले में नक्सली हमले में शहीद हुए अलवर के लक्ष्मण सिंह का बुधवार को राजकीय सम्मान से अंतिम संस्कार किया गया। शहीद की अंतिम विदाई देने उनके पैतृक गांव मुण्डावर के सुन्दरवाड़ी गांव में हजारों लोग उमड़ पड़े। सुकमा में नक्सलियों के आईईडी ब्लास्ट में सीआरपीएफ के नौ जवान शहीद हुए थे। जिसमें अलवर जिले का जवान लक्ष्मण सिंह भी शामिल थे।
शहीद लक्ष्मण सिंह सीआरपीएफ की 212 बटालियन में तैनात थे। जानकारी के अनुसार लक्ष्मण सिंह अभी चार दिन पहले ही दस मार्च को घर से डयूटी पर गए थे। परिजनों ने बताया कि कुछ माह पूर्व ही लक्ष्मण सिंह के पिता का निधन हुआ था। निधन से जैसे तैसे परिवार उबरा ही था कि अब लक्ष्मण सिंह के निधन से पूरा परिवार टूट गया। शहीद लक्ष्मण सिंह वर्ष 2000 में सीआरपीएफ में भर्ती हुए थे। वे चार बहन-भाईयों में सबसे छोटे थे। उनका एक भाई दिल्ली पुलिस और दूसरा जीआरपी में कार्यरत है।

राजे ने व्यक्त की संवेदना

जयपुर। मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे ने छत्तीसगढ़ के सुकमा में हुए नक्सली हमले में केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल के जवान लक्ष्मण सहित अन्य सभी बहादुर जवानों की शहादत पर संवेदना व्यक्त की है।राजे ने कहा कि अलवर जिले के निवासी लक्ष्मण तथा अन्य जवानों की शहादत से देश एवं प्रदेश का नाम गर्व से ऊंचा हुआ है। उनकी शहादत से आने वाली पीढ़ी को देशसेवा के लिए अपना सर्वस्व समर्पित करने की प्रेरणा मिलेगी। मुख्यमंत्री ने ईश्वर से दिवंगतों की आत्मा की शांति तथा शोक संतप्त परिजनों को यह आघात सहन करने की शक्ति प्रदान करने की प्रार्थना की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *