जिस सपने के पूरा होने की आस में पीढिय़ां गुजरीं, उसे हमने पूरा किया: राजे

जिस सपने के पूरा होने की आस में पीढिय़ां गुजरीं, उसे हमने पूरा किया: राजे

-जायल के 120 गांवों तक पहुंचा हिमालय का मीठा पानी-

जयपुर। मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे ने कहा कि जिस सपने के पूरा होने की आस में पीढिय़ां गुजर गई, जायल की जनता के मीठे पानी के उस सपने को हमने पूरा किया है। अब यहां की गांव-ढाणियों को हिमालय का मीठा पानी मिलेगा। करीब 22 साल पहले 1996 में हमारी ही सरकार ने नागौर जिले के लोगों को मीठा पानी उपलब्ध कराने का जो बीड़ा उठाया था, मुझे बहुत खुशी है कि वह पूरा हुआ है।
राजे मंगलवार को जायल में राजस्थान ग्रामीण पेयजल एवं फ्लोराइड निराकरण परियोजना के द्वितीय चरण के तहत जायल क्षेत्र के 120 गांवों को पेयजल वितरण कार्य के शुभारम्भ समारोह को संबोधित कर रही थीं। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर 1394 करोड़ रुपये के विकास कार्यों का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया।

हमारी सरकार होती तो 2010-11 तक पूरा कर चुके होते काम

राजे ने कहा कि अपनी पिछली सरकार के समय 2003 से 2008 के दौरान मैंने जायल के लोगों की पीड़ा को नजदीक से देखा और इसे दूर करने के लिए मातासुख क्षेत्रीय जलप्रदाय योजना के जरिए शुद्ध जल पहुंचाने का काम शुरू किया। यदि इसके बाद भी हमारी ही सरकार होती तो यह काम हम 2010-11 तक पूरा कर चुके होते। वर्ष 2015 में हमने ही नागौर लिफ्ट परियोजना के दूसरे चरण के तीन पैकेजों का कार्य शुरू किया था। दूसरे चरण से नागौर के सात कस्बों और 986 गांवों को मीठा पानी मिलेगा।

नागौर राजस्थान का दिल, वादों को पूरा करने में नहीं छोड़ी कसर

मुख्यमंत्री ने कहा कि नागौर राजस्थान का दिल होने के साथ ही मेरा परिवार भी है। आप लोगों से किए वादों को पूरा करने में मैंने कोई कसर नहीं छोड़ी है। सड़क और शिक्षा से लेकर पानी तक, हर क्षेत्र में जो भी वादे किए, उन्हें पूरा करने में हम कभी पीछे नहीं हटे। हमने साढ़े चार साल में नागौर जिले में विकास कार्यों के लिए 10 हजार करोड़ रुपए दिए हैं। जबकि पिछली सरकार के पूरे पांच साल में मात्र चार हजार करोड़ रुपए के ही काम हुए थे।
राज्य सरकार द्वारा किसानों सहित सभी वर्गों के हित में किए गए फैसलों का जिक्र करते हुए राजे ने कहा कि हमारी सरकार ने किसानों की ऋण माफी का जो ऐतिहासिक निर्णय लिया है, उससे 30 लाख से अधिक हमारे किसान भाइयों को फायदा होगा। इसी तरह सहकारिता विभाग के माध्यम से किसानों को 80 हजार करोड़ रुपये से अधिक के ऋण उपलब्ध कराए गए हैं जो अपने आप में रिकॉर्ड है। अनुसूचित जाति और जनजाति सहकारी विकास निगम की ओर से दिए गए दो लाख रूपये तक के ऋण भी माफ किए हैं, जिससे बड़ी संख्या में युवाओं को राहत मिली है। इस दौरान मुख्यमंत्री ने मेधावी छात्राओं को स्कूटी तथा दिव्यांगों को मोटराइज्ड ट्राइसाइकिल भी वितरित की।

महिलाओं ने ली मुख्यमंत्री की बलइयां
बरसों से खारे पानी की पीड़ा झेल रहे जायल के गांवों की महिलाएं उस समय निहाल हो गई जब मुख्यमंत्री ने मोटर का बटन दबाकर जायल हैडवक्र्स का उद्घाटन किया। इसी के साथ सैकड़ों मील दूर से लाया गया हिमालय का मीठा पानी क्षेत्र में पहुंचा, तो इन महिलाओं ने खुशी का इजहार करते हुए मुख्यमंत्री की बलइयां लीं। श्रीमती राजे के हैडवक्र्स पहुंचने पर महिलाओं ने मंगलगीत गाकर उनका स्वागत किया। जलदाय मंत्री सुरेन्द्र गोयल ने कहा कि मुख्यमंत्री ने राजस्थान की जल समस्या के स्थायी समाधान के लिए बड़े स्तर पर प्रयास किए हैं। इनमें ईस्टर्न राजस्थान कैनाल प्रोजेक्ट और मुख्यमंत्री जल स्वावलम्बन अभियान जैसे महत्त्वाकांक्षी कार्यक्रम शामिल हैं। जायल विधायक डॉ. मंजू बाघमार ने भी समारोह को सम्बोधित किया।

1394 करोड़ से अधिक की सौगात
कार्यक्रम के दौरान 1394 करोड़ रुपए के विभिन्न कार्यों के लोकार्पण किए गए। जिनमें दीनदयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना में 33/11 केवी सब स्टेशन का निर्माण, राजस्थान ग्रामीण पेयजल एवं फ्लोराइड निराकरण परियोजना (नागौर लिफ्ट पेयजल परियोजना फेज-2), राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय से मुख्य आबादी होते हुए खंदलाई नाडी सड़क तक ग्रामीण गौरव पथ, बुरडी-कमेडिया-आकोडा सड़क किमी 7/0 से 8/0ग्रामीण गौरव पथ, जायल-बरनेल-हिरासनी सड़क होते हुए छाजोली मार्ग किमी 0/0 से 1/0 ग्रामीण गौरव पथ, बस स्टेण्ड से खाटू-जायल तिराहा की ओर वाया पोस्ट ऑफिस व सार्वजनिक कुआं किमी 0/. से 1/0 ग्रामीण गौरव पथ, भावला-गेलोली कसनाउ सड़क, ढेहरी मार्ग से मुण्डी सड़क रामदेवरा व आमगवाड वाया नाथजी के थान तक (ग्राम पंचायत) ग्रामीण गौरव पथ, रोल-डिडिया कलां-मूण्डवा सडक किमी 4/0 से 5/0 ग्रामीण गौरव पथ, गोठ-मूण्डवा/आसोप सड़क किमी 15/0 से 16/0 ग्रामीण गौरव पथ जैसी कई योजनाएं शामिल हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *