गुर्जर आरक्षण आंदोलन: बैंसला फील्ड में, प्रशासन चौकस, गांव-गांव बंट रहे पीले चावल

गुर्जर आरक्षण आंदोलन: बैंसला फील्ड में, प्रशासन चौकस, गांव-गांव बंट रहे पीले चावल

भरतपुर। गुर्जर आरक्षण आंदोलन को लेकर कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला की ओर से एक बार फिर हुंकार भरने के साथ ही पुलिस से लेकर राज्य सरकार तक सतर्क हो गई है। वहीं, गुर्जर आरक्षण के मामले में 15 मई को बयाना के गांव अड्डा में प्रस्तावित महापंचायत को लेकर समुदाय के लोग गांव-गांव पहुंचकर पीले चावल बांट रहे हैं।

गुर्जर आंदोलन के मामले में समुदाय को लोग गांव-गांव जाकर लोगों से सम्पर्क और जनजागरण करते हुए महापंचायत में पहुंचने का आह्वान कर रहे हैं। इसके साथ ही बयाना क्षेत्र में हलचल बढ़ गई है। समुदाय के लोग गांवों में पीले चावल बांटकर अधिक संख्या में महापंचायत में पहुंचने का आह्वान किया है। वहीं, आंदोलन के प्रमुख कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला महापंचायत की तैयारियों का जायजा लेने के लिए अड्डा गांव पहुंचे। जहां देवनारायण मंदिर में उन्होंने गुर्जर समाज के नेताओं के साथ महापंचायत की तैयारियों पर विस्तार से चर्चा की। बैठक में गुर्जर समाज के नेताओं ने आक्रोश जताते हुए कहा कि सरकार ने उनकी आरक्षण की मांग को अभी तक अनसुनी कर रखा है और इस बार लड़ाई आर पार की लड़ी जाएगी। गौरतलब है कि 6 मई को गांव कारबारी स्थित गुर्जर शहीद स्थल पर हुई गुर्जर आरक्षण संघर्ष समिती की बैठक में आगामी 15 मई को क्षेत्र के गांव अड्डा में गुर्जर महापंचायत आयोजित करने व गुर्जर आरक्षण आंदोलन की तैयारी का एलान किया गया था।

हरकत में आया प्रशासन

बयाना में गुर्जर समाज की ओर से गुर्जर आरक्षण आंदोलन शुरू करने की चेतावनी के बाद अब शासन व प्रशासन भी हरकत में आ गए है। भरतपुर के जिला कलैक्टर संदेश नायक व जिला पुलिस अधीक्षक अनिल टांक भरतपुर से बयाना पहुंचे जहां से वह क्षेत्र के गांव अड्डा, मदनपुर सिंघाडा व बंधबारैठा पहुंचे। रास्ते में उन्होंनें गुर्जर आरक्षण आंदोलन स्थल पीलूपुरा व शहीद स्थल कारबारी गांव सहित रास्ते में गांव शेरगढ़, सिकंदरा, समोगर के रेल्वे पुल व सड़क पुल एवं डुमरिया रेल्वे स्टेशन व डुमरिया रेल्वे फाटक, गांव धाधरैन, जाटव बस्ती रेल्वे फाटक, गांव ब्रम्हबाद व महमदपुर आदि गांवों का भी जायजा लिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *