मुख्यमंत्री ने लिया टिड्डी से फसलों को हुए नुकसान का जायजा -आज से ही विशेष गिरदावरी के आदेश

मुख्यमंत्री ने लिया टिड्डी से फसलों को हुए नुकसान का जायजा  -आज से ही विशेष गिरदावरी के आदेश

बाड़मेर/जालौर। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने टिड्डी से फसलों को हुए नुकसान का सोमवार को जालौर और बाड़मेर में मौके पर जाकर जाजया लिया। उन्होंने तुरन्त प्रभाव से विशेष गिरदावरी के आदेश दिए जो मंगलवार से ही शुरू होने जा रही है।

गहलोत ने कहा है कि टिड्डी दल से फसलों को हुए नुकसान का आंकलन करने के लिए राज्य सरकार विशेष गिरदावरी करा रही है। उन्होंने कहा कि संकट की इस घड़ी में सरकार किसानों के साथ खड़ी है और उनकी हरसंभव मदद की जाएगी। सीएम ने बाड़मेर जिले की धनाऊ तहसील के मीठी नाड़ी गांव में टिड्डी दल के हमले से फसलों को हुए नुकसान का जायजा लेने के बाद धनाऊ पंचायत समिति मुख्यालय पर जनसभा को संबोधित किया। मुख्यमंत्री ने मीठी नाड़ी में किसान कालूराम एवं भंवराराम के खेत में पहुंचकर फसलों के नुकसान का जायजा लिया। उन्होंने धनाऊ पंचायत समिति सभागार में टिड्डी नियंत्रण को लेकर अधिकारियों के साथ चर्चा भी की।

गहलोत ने कहा कि आमतौर पर रबी की गिरदावरी मार्च अथवा अप्रैल माह में होती है। लेकिन इस बार किसानों को राहत पहुंचाने के लिए विशेष गिरदावरी करवाई जा रही है। किसानों को तत्काल इमदाद दिलाने के लिए गिरदावरी का कार्य त्वरित गति से करने के निर्देश दिए गए हैं। इस दौरान मुख्यमंत्री को किसानों ने बताया कि करीब दस दिन पूर्व आए टिड्डी दल ने खेतों में खड़ी जीरे, इसबगोल एवं अरंडी की फसलों को भारी नुकसान पहुंचाया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि विशेष गिरदावरी का कार्य एक सप्ताह में पूरा कर लिया जाए। फसल में हुए खराबे का आंकलन करते हुए केन्द्र सरकार को रिपोर्ट भिजवाई जाएगी। इस दौरान कृषि मंत्री लालचंद कटारिया एवं राजस्व मंत्री हरीश चौधरी ने भी संबोधित किया।

सांचोर में
मुख्यमंत्री गहलोत ने जालोर जिले के सांचौर क्षेत्र में टिड्डी प्रभावित क्षेत्रों का दौरा किया। उन्होंने सांचौर में अधिकारियों से टिड्डी नियन्त्रण के लिए किये जा रहे कार्यों की जानकारी ली तथा डेडवा में किसानों से रूबरू हुए। गहलोत ने कहा कि सरकार किसानों को राहत पहुंचाने में कोई कमी नहीं छोड़ेगी। मुख्यमंत्री मध्यान्ह में सांचौर पहुंचे जहां जिला प्रशासन, कृषि, टिड्डी नियन्त्रण दल एवं अन्य अधिकारियों से टिड्डी दलों की रोकथाम के कार्यों की जानकारी ली। इसके बाद डेडवा ग्राम में आयोजित कार्यक्रम में उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने टिड्डी दलों की समस्या से निजात के लिए टिड्डी चेतावनी संगठन के साथ पर्याप्त संसाधन व कार्मिक लगाए हैं। राजस्व मंत्री हरीश चौधरी, कृषि मंत्री लालचन्द कटारिया तथा वन एवं पर्यावरण राज्यमंत्री सुखराम विश्नोई ने भी विचार व्यक्त किए। मुख्यमंत्री ने धमाणा ग्राम में टिड्डी से प्रभावित खेतों का मौके पर जायजा लिया तथा इस आपदा से शीघ्र ही निपटने के लिए किसानों को आश्वस्त करते हुए हर संभव सहायता का भरोसा भी दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *