Social

लाइकी ने डिजिटल टैलेन्ट पेजेंट मिस लाइकी 2020 के लिए अग्रणी ब्रैंड्स के साथ मिलाया हाथ

नई दिल्‍ली, 26 जून, 2020: सिंगापुर स्थित बिगो टैक्‍नौलॉजी प्राइवेट लिमिटेड के अग्रणी शॉर्ट वीडियो प्‍लेटफार्म लाइकी ने अपने मंच से जुड़ी महिला क्रिएटर्स के लिए एक अनूठा डिजिटल टैलेन्‍ट पेजेंट – मिस लाइकी 2020 लॉन्‍च करने की घोषणा की है। इसके तहत्, क्रिएटर्स को अलग-अलग चरणों में प्रतिस्‍पर्धा में उतरना होगा और इनके आधार पर पेजेन्‍ट की खिताबी विजेता का चयन किया जाएगा। मिस लाइकी 2020 के इस सफर

डिजिटल टैलेन्ट पेजेंट मिस  लाइकी 2020 सोशल मीडिया पर हुआ बेहद लोकप्रिय, 800 मिलियन से ज़्यादा बार देखा गया

नई दिल्ली, जून 2020: सिंगापुर स्थित बिगो टैक्नौलॉजी प्राइवेट लिमिटेड के अग्रणी शॉर्ट वीडियो प्लेटफार्म लाइकी ने हाल ही में डिजिटल टैलेन्ट पेजेंट मिस 2020 लॉन्च किया। यह पेजेंट शॉर्ट वीडियो पंसद करने वाली भारतीय युवा महिलाओं को अपनी प्रतिभा दिखाने और पुरस्कृत होने का मौका देता है। इस कार्यक्रम को शुरुआत से ही ज़बरदस्त समर्थन मिला और इसकी विभिन्न श्रेणियों के तहत 3.73 लाख से अधिक प्रविष्टियां आईं। कार्यक्रम

प्यार, सम्मान ...दोनों पर सभी का हक है! ज़ी सिनेमा पर देखिए थप्पड़ का टेलीविजन प्रीमियर, एक ऐसी फिल्म जिसने देशभर के परिवारों का दिल जीत लिया

किसी ने सच ही कहा है, रिश्ते बनाने में उतनी कोशिश नहीं लगती, जितनी निभाने में लगती है। इसी तरह हम भी अपने आसपास अपने चाहने वालों से घिरे होते हैं, जो हमारे लिए अपनी खुशियां कुर्बान कर देते हैं। हालांकि हम अपनी जिंदगी में इतने व्यस्त होते हैं कि हम अक्सर उन पर ध्यान नहीं दे पाते हैं। इसी मुद्दे को उजागर करती है डायरेक्टर अनुभव सिन्हा की प्रभावशाली

नारायण सेवा संस्थान ने 'कोरोना' से प्रभावित कामगारों के लिए शुरु की निःशुल्क राशन योजना

उदयपुर,24 जून- नारायण सेवा संस्थान ने ‘कोरोना’ से प्रभावित कामगारों के लिए निशुल्क राशन योजना का शुभारंभ किया । इस योजना के प्रथम चरण में 50000 गरीब-मजदूर परिवारों को निःशुल्क मासिक राशन वितरण योजना मुहैया कराया जाएगा। आर्थिक रुप से कमजोर वर्ग, कोरोना से प्रभावित कामगारों की सहायता के लिए राशन योजना लाई गई है । जिससे दो जून की रोटी बिना तकलीफ के मुहैया कराई जा सके । 50000

अब महंगाई से निपटने की चुनौती: इस तरफ कोई सरकार ध्यान नहीं दे रही

रोशनलाल शर्मा कोरोना वॉयरस के साथ अब देश की जनता को महंगाई के वायरस के साथ भी लडऩा होगा। हालांकि महंगाई वह मुद्दा है जो पिछले दो दशक से देश में चुनावों में अहम रोल निभाता है लेकिन कोरोना तो फिर भी नियंत्रित होता दिखाई दे रहा है और उसके मरीज रिकवर भी हो रहे हैं लेकिन महंगाई के वायरस से रिकवर होना लोगों को अब मुश्किल लग रहा है।

आत्मनिर्भर भारत # बिना हथियार का  युद्ध

आत्मनिर्भर भारत # बिना हथियार का युद्ध आजकल देश में सोशल मीडिया के विभिन्न मंचों पर चीन को बॉयकॉट करने की मुहिम चल रही है। इससे पहले कोविड 19 के परिणामस्वरूप जब देश की अर्थव्यवस्था पर वैश्वीकरण के दुष्प्रभाव सामने आने लगे थे तो प्रधानमंत्री ने आत्मनिर्भर भारत का मंत्र दिया था। उस समय यह मंत्र देश की अर्थव्यवस्था को दीर्घकालिक लाभ पहुंचाने की दृष्टि से उठाया गया एक मजबूत

बबीता की मौत मामले में मीणा समाज लामबंद

-आरोपियों को गिरफ्तार करने की मांग को लेकर सरकार को दिया 7 दिन का अल्टीमेटम जयपुर। राजधानी जयपुर के जगतपुरा इलाके में गत माह संदिग्ध परिस्थितियों में हुई बबीता मीणा की मौत के मामले में अब मीणा समाज लामबंद हो गया है। सरकार और पुलिस प्रशासन के लचर रवैए के खिलाफ जयपुर, दोसा, अलवर, सीकर, टोंक सहित विभिन्न जिलों के मीणा समाज के जिलाध्यक्ष व प्रबुद्धजनों ने जयपुर में आंदोलन

पलाश सेन के नए सिंगल ‘आई लाइक इट’ ने रचा कीर्तिमान, लाईकी पर मिले 200 मिलियन से ज्यादा व्यूज़

नई दिल्ली, 11 जून 2020: भारत के लोकप्रिय इंडिपॉप गायक पलाश सेन ने हाल ही में सिंगापुर की बिगो टैक्नो्लॉजी लिमिटेड की अग्रणी शॉर्ट वीडियो प्लेेटफॉर्म लाईकी पर अपना नया सिंगल ‘आई लाइक इट’ लॉन्चै किया। यह पहला मौका था जब किसी शॉर्ट वीडियो ऍप पर एक ओरिजिनल गीत रीलीज किया गया और बहुत ही कम समय में इसने एक नया कीर्तिमान स्थापित कर दिया । पलाश के नए गीत

सन्यासी की परंपरागत छवि बदलते योगी

एक प्रदेश जो लचर कानून व्यवस्था अराजकता और भ्रष्टाचार के लिए जाना जाता था। ऐसा राज्य जहाँ बिजली कब आएगी इसी इंतजार में लोगों का दिन निकल जाता था।जहाँ बिना नकल के कोई परीक्षा ही नहीं होती थी। जहाँ दिनदहाड़े गुंडागर्दी और साम्प्रदायिक दंगे आम बात थी। जहाँ के लोग इन हालातों को अपना भाग्य मानकर उन से समझौता करके जीना सीख चुके थे आज वो प्रदेश देश के मानचित्र

जीवन चलाने के लिए जीवन को ही दांव पर लगा दिया गया

विज्ञान के दम पर विकास की कीमत वैसे तो मानव वायु और जल जैसे जीवनदायिनी एवं अमृतमयी प्राकृतिक संसाधनों के दूषित होने के रूप में चुका ही रहा था किंतु यही विज्ञान उसे कोरोना नामक महामारी भी भेंट स्वरूप देगा इसकी तो उसने स्वप्न में भी कल्पना नहीं की होगी। अब जब मानव प्रयोगशाला का यह जानलेवा उपहार उस पर थोपा जा ही चुका है तो निसंदेह उसे प्रकृति के