भाजपा प्रदेशाध्यक्ष पर दोनों पक्ष अड़े!

भाजपा प्रदेशाध्यक्ष पर दोनों पक्ष अड़े!

अगले तीन दिन में हो सकती है घोषणा

नई दिल्ली/जयपुर। राजस्थान के विधानसभा चुनाव, देश के लोकसभा चुनाव और प्रदेश भाजपा अध्यक्ष की नियुक्ति जैसे मसले सुलझाने के लिए दिल्ली में चल रहे मंथन के दौरान अध्यक्ष पद पर फिलहाल दोनों पक्ष अड़े हुए बताए गए हैं। केन्द्रीय नेतृत्व गजेन्द्रसिंह शेखावत के नाम से आगे नहीं बढ़ रहा है और प्रदेश के नेता इसके अलावा दूसरा कोई भी नाम स्वीकार करने को तैयार हैं।

इस बीच गुरुवार को मुख्यमंत्री राजे दोपहर तक बीकानेर हाउस रूकी। जहां उन्होंने डालमिया ग्रुप के चैयरमेन आरएस डालमिया के साथ मुलाकात की।वहीं, बीकानेर हाउस मे वसुंधरा राजे से मुलाकात करने के लिए बाद में राज्यसभा सांसद किरोड़ी लाल मीणा भी पहुंचे। बताया जा रहा है कि कुछ मंत्री भी दिल्ली में रुके हुए हैं। माना जा रहा है कि वसुंधरा राजे और इन मंत्रियों के बीच वापस आगामी रणनीति को लेकर चर्चा हो सकती है।

दोपहर को कुछ देर विश्राम के बाद राजे सीधे 17-अकबर रोड़ स्थित राजनाथ सिंह के आवास पर पहुंची। बताया जा रहा है कि प्रदेशाध्यक्ष के मसले को लेकर वे उनसे बात करने पहुंची थीं। राजनाथ से करीब आधे घण्टे तक हुई मुलाकात के बाद वसुंधरा राजे उनके आवास से सीधे एम्स अस्पताल पहुंची। जहां उन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री अटलबिहारी वाजपेयी की कुशलक्षेम पूछी। शाह के साथ हुई वार्ता में वसुंधरा राजे ने विधानसभा चुनाव की रणनीति को अंतिम रूप दिया। इस दौरान शाह की वसुंधरा के साथ प्रदेशाध्यक्ष को लेकर भी चर्चा हुई। लेकिन, कोई निष्कर्ष नहीं निकल सका। इस अहम बैठक के बाद संकेत मिले थे कि प्रदेशाध्यक्ष को लेकर फैसला शुक्रवार या रविवार तक आ सकता है।

राजे ने सांसदों की कार्यप्रणाली पर आपत्ति की

पार्टी अध्यक्ष शाह की मौजूदगी में हुई बैठक के दौरान मुख्यमंत्री ने योजनाओं के प्रचार-प्रसार और जनता से दूरी बनाने के लिए सांसदों को आडे हाथों लिया है। बताया जा रहा है कि शाह ने राज्य में केंद्रीय और राज्य की योजनाओं का प्रचार-प्रसार नहीं होने की मिली रिपोर्ट पर आपत्ति जताई थी। मुख्यमंत्री राजे ने इसके लिए 15 सांसदों को जिम्मेदार ठहराया। उनका कहना था कि कई सांसद क्षेत्र से कटे हुए हैं और वे जनता के बीच जाते ही नहीं है। सांसदों का संबंधित क्षेत्र के विधायकों से भी तालमेल नहीं है। यह सुनने के बाद शाह ने ऐसी स्थिति पैदा करने वाले सांसदों की टिकट काटने तक की बात कह दी।

7 जुलाई को मोदी आएंगे राजस्थान, 2 लाख बूथ कार्यकर्ताओं को देंगे जीत का मंत्र

स्मार्ट सिटी योजना से जुड़े एक कार्यक्रम में शिरकत करने लिए पीएम मोदी 7 जुलाई को जयपुर आ सकते हैं। प्रदेश सरकार के साथ ही पार्टी स्तर पर भी इसका प्लान तैयार किया जा रहा है। इस सरकारी आयोजन के दौरान ही प्रदेश भाजपा संगठन जयपुर में संभाग स्तर के बूथ कार्यकर्ताओं और सदस्यों के विशाल सम्मेलन की रूपरेखा भी तैयार कर रहा है। दिल्ली में अमित शाह और मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे की मौजूदगी में हुई प्रदेश नेताओं की अहम बैठक में इस विषय पर चर्चा भी हुई। बैठक में यह प्रस्ताव भी रखा गया कि जयपुर में प्रस्तावित इस बूथ सम्मेलन में करीब 2 लाख लोगों की भीड़ जुटाई जाएगी। बैठक में सैद्धांतिक रूप से इस पर सहमति भी बन गई लेकिन पीएम मोदी के स्तर पर इसकी स्वीकृति मिलना शेष है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *