‘मानसरोवर गौरव सम्मान से 71 विभूतियां अलंकृत

'मानसरोवर गौरव सम्मान से 71 विभूतियां अलंकृत

गरिमापूर्ण व्यक्तित्व का सम्मान समाज का दायित्व: मिश्रा

जयपुर। ‘नागरिक मोर्चाÓ की ओर से रविवार को एक भव्य समारोह में मानसरोवर स्थित आकाशदीप बी.एड कॉलेज के सभागार में मानसरोवर की 71 लब्ध प्रतिष्ठित प्रतिभाओं को ‘मानसरोवर गौरवÓ के अलंकरण से विभूषित किया गया। कार्यक्रम में उद्घाटनकर्ता पूर्व चीफ जस्टिस एस.एन. भार्गव ने कहा कि मानसरोवर की विभूतियों को सम्मानित करना अपने आप में एक अतुलनिय कार्य है और नागरिक मोर्चा द्वारा किया गया यह प्रयास अपने आप में अनूठा कार्य है। जो सामाजिक प्रतिभाओं का उत्सावर्धन करता है व मान बढ़ाता है।

इस अवसर पर नागरिक मोर्चा के संस्थापक अध्यक्ष पण्डित सुरेश मिश्रा ने कहा कि व्यक्तित्व का सम्मान समाज का दायित्व हैं और इस प्रकार के आयोजनों में ऐसी प्रतिभाऐं जो प्रदेश में ही नहीं अपितु सम्पूर्ण भारत में एषिया की सबसे बड़ी कॉलोनी मानसरोवर क्षेत्र का नाम रोशन कर रही हैं वे भी प्रोत्साहीत होंगी ओर उनके पद चिन्हों पर चलकर युवा पीडी को मार्ग दर्शन मिलेगा।

कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे विश्व प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्य पं. केदार शर्मा ने कहा कि राजस्थान की संस्कृति में यह परम्परा रही है कि प्रतिभाओं को प्रोत्साहित करना समाज का दायित्व ही नहीं परम कर्तव्य है। मानसरोवर गौरव से सम्मानित हो रही प्रतिभाओं ने जिन्होने मानसरोवर का नाम रोशन किया हैं उससे सम्पूर्ण प्रदेश गौरवान्वित है।

संस्कृति युवा संस्था के संरक्षक एडवोकेट एच.सी. गणेशिया एवं डिप्टी डायरेक्टर डीपीआर गोविन्द पारीक ने नागरिक मोर्चा द्वारा किये जा रहे कार्यों की भूरी-भूरी प्रशंसा करते हुए कहा कि नागरिक मोर्चा द्वारा मानसरोवर क्षेत्र के वरिश्ठ व युवाओं को भारतीय संस्कृति की तरफ पुन: आकर्षित करने के लिए जो प्रयास किये जा रहे हैं वे सराहनीय हैं और ऐसे सम्मान समारोह प्रतिभाओं को अधिक लगन से समाज सेवा व विभिन्न क्षेत्रों में कर्मठता से काम करने के लिये प्रेरित करती है।

नागरिक मोर्चा के महासचिव एवं कार्यक्रम संयोजक संदीप भातरा ने समारोह की जानकारी देतेे हुये कहा कि मानसरोवर गौरव सम्मान समारोह की शुरूआत एक अभिनव प्रयास है जिसे अनवरत जारी रखा जाएगा। इस अवसर पर मानसरोवर क्षेत्र की 71 प्रतिभाओं को स्मृति चिन्ह, प्रशस्ति पत्र, शॉल व साफा पहनाकर सम्मानित किया गया।

इनका हुआ सम्मान

इस अवसर पर विभिन्न विकास समितियों के पदाधिकारियों, समाज सेवा, चिकित्सा, पत्रकारिता, साहित्य, राजकीय सेवा व षिक्षा, कला, पर्यावरण संरक्षण, आर.टी.आई. व विभिन्न क्षेत्रों से जुड़े हुए ले.क. सी.एल. खण्डेलवाल, बी.के. अरोडा, सुनिल अरोडा, एस.के. शर्मा, जगदीश ठाकुर, लोकेन्द्र कुमार कुलश्रेष्ठ, दीपक डोभाल, ज्ञानसिंह सलुजा, एस.एस. केडिया, सुरेन्द्र सिंह चौधरी, प्रकाश चन्द आकड, एन.के. सलुजा, वेदपाल सिंह गहलोत, लक्ष्मी अशोक, नंदकिशोर कम्बोज, राजेश मेघरानी, संजय फटेला, अनिलकुमार जैन, मुरली पारवानी, रामवतार शर्मा, कमलेश गोयल, नीरज डोडा, महेश शर्मा, मनीश जैन, संजय बाहेती, गजराज ब्रह्मभट्ट, डॉ. तुशार जागावत, इंजीनियर सुरेशचन्द्र गुप्ता, गोविन्द नारायण शर्मा, अभिषेक सक्सैना, प्रशांत गौड, विनोद पाठक, गोपाल शर्मा, नीरज पांथरी, चन्द्रवीर सिंह, राजेन्द्र शर्मा, सौरभ पांथरी, रविकांत शर्मा, राजेन्द्र सिंह बसवाल, किरण शर्मा, ताराचंद अग्रवाल, सुनिता जैन, कविराज सेठी, जितेश जेठानंदानी, राजकुमार यादव, कीर्ति कुमार, आर.सी. नवल, अरूण किम्मतकर, ठाकुर दास गुंचानी, संतोष अग्रवाल, प्रेमचंद जैन, अम्बिका प्रसाद तिवाड़ी, शिवदयाल सिंघल, सोहल लाल शर्मा, रामबाबू सिंघल, राजेशकुमार शर्मा, प्रेमपाल शर्मा, मंजू सोनी, रेखा सोनी, अर्जुन वैष्णव, पारूल शर्मा, राहुल शर्मा, गायत्री शर्मा, मीनाक्षी भारद्वाज, भूपेन्द्र भार्गव, कुलशेखर शर्मा, सौरभ तिवाड़ी, श्याम कमलानी, डॉ. एस.एन. जोशी, सुरेन्द्र कुमार जैन, गुलशन वर्मा, गिरधर गोपाल मुद्गल, डॉ. ए.पी.एस. छाबडा को स्मृति चिन्ह, प्रशस्ति पत्र, शॉल व साफा पहनाकर सम्मानित किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *